सब्जी वाले का मोटा खीरा माँ बेटी ने साथ में खाया

New Hindi Sex Story

Painful Chudai

हेलो दोस्तो मेरा नाम रज्जन है। मेरी उम्र 35 साल है। मैं उत्तर प्रदेश के छोटे से गांव सलीमपुर से हूँ। मेरी लम्बाई 5’11 है। गांव में खेती बाड़ी और अखाड़ा जाने से मेरे लंड 11 इंच का है। मैं देखने मे सामान्य सा हूं। अब मैं अपनी कहानी पर आता हूं, ये कहानी 2016 की है। मैं टोकरी में सब्जियां गली मोहल्ला जा कर बेचता हूँ। Painful Chudai

एक दिन की बात है मैं एक गली में सब्जी बेच रहा था मुझे एक औरत ने बुलाया वो औरत देखने मे एकदम पारी जैसी थी दूध जैसा गोरा बदन, बड़ी बड़ी चुचिया लगभग 38 इंच की थी पतली कमर और तरबूज जैसा फूली हुई बड़ी बड़ी 38 इंच की गांड देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया और मैं उस औरत को देखता ही रह गया.

फिर उस औरत ने मुझे बुलाया तो मुझे होस आया। मैं उसे चोदने के बारे में मन ही मन सोचने लगा कि एक बार ये औरत मिल जाये बस मैं उसे दिन रात चोदू। फिर मैंने बोल – मेम साहब आप को क्या चाहिए मेरे पास सब सब्जियां है।

फिर उसकी दो बेटियां भी बाहर आई वो दोनों तो अपने माँ से भी खूबसूरत थी बड़ी बड़ी चुचिया गोरा रंग फिर एक लड़की ने अंदर आने को बोला मैं अंदर आ गया फिर लड़की ने बोला मुझे सब्जी नही चाहिए (मैंने मन में सोचा कि सब्जी नही चाहिये तो क्या लंड चाहिये क्या).

फिर मैंने गुस्से में बोला कि तब क्यों बुलाया मुझे जब तुम्हे सब्जी नही चाहिये। फिर उसने बोला की मुझे आप का खीरा चाहिये। मुझे समझ मे नही आया तो मैं बोला क्या, तो उसने मेरे लंड के तरफ इशारा करते हुए कहा कि ये वाला खीरा चाहिये तो मैंने बोला की क्यों नही।

मैं तो आप को उन तीनों के बारे में बताना ही भूल गया उनमें माँ का नाम सलमा था और उसकी उम्र लगभग 40 साल के बीच थी उसकी बड़ी बेटी का नाम सना था उसकी उम्र 20 साल और छोटी बेटी का नाम अदीबा था और उसकी उम्र 19 साल थी।

फिर मैंने सलमा की बड़ी बड़ी चुचियो को दबाया और सना ने मेरे लंड को कपड़े के ऊपर से पकड़ने लगी और हैरान हो कर बोली अम्मी इसका लंड हो बहुत बड़ा अब्बू और भाईजान के लंड से भी बड़ा है। फिर अदीबा बोला की सब लोग बेडरूम में चलो नही तो कोई देख लेगा. तो सब लोग बेडरूम में चल पड़े और मैं सलमा की चूची को पकड़ के रूम में गया.

फिर सलमा ने बताया कि सना के अब्बूजान और भाईजान 10 दिन से दूसरे शहर गये है और तब से हम तीनो की फुद्दी चूदी नही है सना के अब्बूजान और भाईजान हम तीनों की फुद्दी रोज चोदते है हम सब एक दूसरे से सेक्स करते है 10 दिन से तीनों की चुदाई नही हुई इसलिये तुम्हें चुदाई करने के लिये बुलाया है हम तीनों बहुत देर से कोई हट्टे कट्टे जवान मर्द की तलाश कर रहे थे तो तुम हम सब को दिखे तो तुम्हे चुदाई करने के लिए बुलाया.

तो मैं ये सुनकर बहुत खुश हो गया। फिर मैने सलमा का ब्लाउज़ उतारा फिर उसकी साड़ी उतारा और ब्रा पेटिकोट उतारा और उसकी चूत को पेंटी के ऊपर से सहलाया उसकी पैंटी गीली हो चुकी थी फिर उसकी पेंटी को फाड़ दिया और उसकी चूत में 2 उंगलिया डाल दी और उसकी सिसकारियां निकलने लगी.

फिर सना आके मेरा पेंट उतरके मेरा लंड निकालकर मुह में लेना चाहा पर उसके मुंह मे लंड सही से नही जा रहा था फिर मैं एक हाथ से सलमा की चूत में उंगली कर रहा था और दूसरे हाथ से सलमा की चूची को दबा रहा था फिर सना ने मेरे सारे कपड़े उतार दिये.

फिर मैंने सना के भी कपड़े उतार दिया और अदीबा के भी कपड़े उतार दिया और सभी लोग नंगे हो गये फिर मैंने अदीबा को किश करना शुरू कर दिया फिर मैंने अदीबा की चूत चाटना शुरू कर दिया और मेरा लंड सना मुह में ली थी तभी अदीबा के चूत का पानी छूट गया और मैने उसका पानी पी लिया.

फिर मेरा भी पानी निकल गया फिर सलमा भी झड़ गई उसका पानी अदीबा और सना ने मेरा पानी पी लिया। फिर सलमा ने मेरे लंड को सहलाया फिर से मेरा लंड खड़ा हो गया फिर मैंने सलमा की चूत में अपना लंड सेट किया और ऊपर नीचे कर के उसको तड़पाने लगा. ये कहानी आप क्रेजी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है.

तो सलमा बोली प्लीज मुझे मत तड़पाओ चोद दो मुझे फिर मैंने एक झटके में अपना लंड उसकी चूत में घुसा दिया। मेरा 5 इंच लंड उसके चूत में गया और सलमा जोर से चीखने लगी कि मार गई रे मादरचोद बहन के लोडे उसकी गली सुन कर मुझमे जोश आगया. “Painful Chudai”

दूसरे झटके में मेरा लंड सलमा की चूत फाड़ता हुआ अंदर घुस गया फिर सलमा जोर से चिल्लाई बाहर निकालो बाहर निकालो लंड को बहन के लोडे मादरचोद मैंने उसकी एक ना सुनी और उसे लगातार झटके देता रहा 20 मिनट बाद वो भी मेरा साथ देने लगी.

उसके मुह से सिसकारियां निकलने लगी और बोलने लगी आह आह और जोर से ओर जोर से चोदो मुझे चोदो फाड़ दो मेरी इस फुद्दी को आआआ आअह्हह्हह…ईईईईईईई…ओह्ह्ह्हह्ह…अई अई अई…अई हा हा …ऊऊऊ …ऊँऊँ…ऊँ…उनहूँ उनहूँ उई उई उई…ओह्ह्ह्ह अहह्ह्ह्हह मार गई रे रे तब तक मैं सना और अदीबा की चूतो में उंगली कर रहा था।

फिर 25 मिनट की चुदाई के बाद मैने लंड उसकी चूत से निकाल कर इसके गांड में सेट किया तब तक सना और अदीबा भी झड़ चुकी थी फिर सलमा बोली कि वाह नही गांड में बहुत दर्द होता है सना के अब्बू का लंड तुम्हारे लंड से छोटा है गांड में बहुत दर्द होगा.

पर मैं बोला मैं आराम से लंड डालूंगा फिर बहुत मनाने के बाद सलमा मान गई फिर मैने सलमा की गांड में लंड सेट किया और आराम से लंड डाल दिया और 5 इंच आराम से घुस गया फिर मैंने जोर से झटका मारा और लंड सलमा की गांड को चीरता हुआ अंदर घुसा और सलमा बेहोस सी हो गई.

फिर मैं कुछ देर रुका फिर धिरे धिरे धक्का देना शुरू कर दिया 15 मिनट के बाद सलमा भी गांड उठाकर साथ देने लगी 10 मिनट बाद मैंने बोला की मेरे पानी निकालने वाला है तो सलमा में बोला की मुझे तुम्हारा पानी पीना है तो मैंने लंड सलमा के मुंह मे डाल दिया और वो सारा पानी पी गई. “Painful Chudai”

फिर सलमा खाना लाने के लिए नंगी ही किचन में गई और कुछ ले आई वो खाने के बाद सना मेरे लंड से खेलने लगी मेरा लंड भी एक दम खड़ा हो गया और सना की चूत में सेट किया और एक ही झटके में आधा लंड सना की चूत में घुस गया.

जैसे ही सना चिल्लाने वाली थी वैसे ही अदीबा अपनी चूत उसके मुह में रख देती है और अगले ही पल एक और झटके में लंड पूरा सना की चूत में 30 मिनट तक लगातार उसकी चुदाई करने के बाद सना कि गांड में लंड घुसाने की कोशिस करता हु पर लंड उसकी गांड में घुसता नहीं.

फिर मैं लंड में तेल लगा कर उसकी गांड में सेट करता हु और जोर से झटका देते ही थोड़ा सा लंड अंदर जाता है और सना रोने लगती है और बोलती है इसे बाहर निकालो ये मेरी गांड फाड देगा निकालो इसे पर मैं उसकी पर्वाह किये बिना और जोर से झटका मरता हु और लंड गांड चीरता हुआ अंदर जाता है.

और सना उछालकर खड़ी हो जाती है और जोर जोर से रोने लगती है। तो सलमा बोलती है तू अब रुक जा सना की गांड मत मार और सना से बोलती है कि तू बिस्तर पर लेट जा फिर मैं अदीबा की चूत चाटने लगता हूँ फिर उसकी चूत में लंड घुसता हु उसकी चूत कम चुदने के कारण उसमे लंड नही जाता है. “Painful Chudai”

फिर मैं जोर से लंड डालता हूँ तो लंड उसकी चूत को फाड़ता हु अंदर जाता है और उसके चूत से खून निकलने लगता है अदीबा बहुत जोर से चिल्लाती है फिर 10 मिनट बाद मेरा साथ देने लगती है 20 मिनट बाद मैं उसके चूत में ही झड़ जाता हूं।

फिर मैं अपना कपड़ा पहनने लगा तो सलमा बोली कि आज रात यही रुक जाओ पर मैं बोलता हूं कि मैं आज रात यहाँ रुक नही सकता घर मे मेरी बीवी बच्चे मेरा इंतजार कर रही है तो सलमा दुखी हो जाती है मैं बोलता हूं कि मैं कल जरूर आऊंगा.

तो सलमा दुखी मन से बोलती है की ठीक है तो मैं बोलता हूं कि मेरे 3 दोस्त है आप बोलो तो कल उन सब को भी ले आउ मेमसाहब तो तीनों खुश होकर बोलती है कि ले आओ कल तो मैं कल का बोल कर मैं अपने घर चला जाता हूं और आगे की कहानी अगली बार तब तक के लिए अपना खयाल रखिएगा।

Visited 118 times, 1 visit(s) today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *