मम्मी और चाचा के प्रेम प्रसंग की सत्य कथा 1

Bhabhi Ki Chudai

Devar Bhabhi Romance

ये कहानी मेरे साथ घटित एक सत्य वाक्या है…जो की मेरे मॉम और चाचा के बीच चल रहे प्रेम प्रसंग की है. दोस्तों मेरा नाम रोहन है मे 22 साल का फिट लड़का हूँ मेरी हाइट 5.10 है.कहानी शुरू करने से पहले आप लोग कों मॉम के बारे मे परिचय करवा दू. Devar Bhabhi Romance

मेरी मॉम एक देसी हाउस गृहणी है. जिनका नाम रेनू है जो की 45 साल की है लेकिन अपने कों फिट रखती है.जिनकी हाइट लगभग 5.4 है. गडराया हुआ शरीर साइज़ 36-34-40 है. घर मे वो हमेशा या तो मैक्सी पहनती है या टाइट लेगीन्स कुर्ती.

जिसमे उनका स्तन बहुत उभर कर दिखाई देता है गला लौ कट कि बजह से और उने नितम्ब काफ़ी बाहर कों निकला हुआ है जिसकी वजह से हर किसी का समान टाइट हो जाता है. उनकी आदत है घर मे पंटी ना पहनने की और किसी के ना रहने पर मेरे सामने ही या हाल मे ही कपड़े बदलने की.

वो ज़ब भी साफ सफाई करती जो मुझे ऐसा लगता की वो जानबूझकर अपने अंगों कों मेरे सामने दिखा रही. जैसे कुछ देते टाइम उनका झुककर देना और पल्लू गिरा देना ताकि क्लिवलेज दिख जाए. मेरे तरफ नितम्बो कों उठाकर कुछ फ्रिज से देर तक निकालने लगना.

उनको बहुत बार मैंने सिर्फ ब्रा मे देखा है लेकिन फिर भी उनके लिए मेरे मन मे कोई गंदा विचार नहीं आया. लेकिन एक दिन कुछ ऐसा हुआ जिसके बाद से मेरा विचार उनको लेकर अचानक से बदल गया. अब आते है सीधे सच्ची स्टोरी पर.

बात कुछ साल पहले की है.हुआ ये की तब फ्लैट दूसरा था पापा दिन भर ऑफिस हम दोनों घर पर अकेले रहते थे हर दिन यही होता था. लेकिन मेरी सोच उनको लेकर बिलकुल भी ऐसी नहीं थी. लेकिन एक दिन ज़ब चाचा आये हुए थे तो ज़ब पापा ऑफिस चले गए.

मे हॉल मे सोया था देर तक. ज़ब उठा और ज़ब उठकर चैट कर रहा था किसी से तो हाल से पापा का रूम दीखता था अचनक मुझे सिस्कारी की आवाज़ सुनाई डी. तो मैने हल्का सा उठकर देखा तो मॉम लेती थी और वो उनके पैर के पास बैठे थे.

सायद वो उनके उसमे ऊँगली कर रहे थे और मॉम के सिसकारियों की आवाज़ उममममममममम आआआआआआह उममममममममममममममम की साफ सुनाई दे रही थी. मैंने हल्के से हाल मे से ही ज़ब देखने की कोशिस की तो देखा चाचा उनके दोनों जांघो पर बैठे थे. ये कहानी आप क्रेजी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है.

और मॉम का मेक्सी उठा हुआ था ऊपर तक और उनके स्तन बिलकुल तने हुए थे मॉम तेजी से सांसे ले रही थी मादक आवाज़ मे. जिसकी वजह से उनके 36 साइज़ के गोरे स्तन फूल रहे थे. ये देखते मेरी सांसे तेजी हो गयी और अजीब भी लगने लगा.

मुझे यकीन नहीं हुआ की मेरी संस्कारी मॉम ऐसा कर सकती है. वो भी घर के ही अपने किसी के साथ.उस टाइम शॉक्ड हो गया सांसे तेज हो गयी थी की ये सब क्या हो रहा है. फिर भी लेते रहा. थोड़ी देर मे उठ गया तो वो लोग अलर्ट हो गए..

उसी दिन की बात बता रहा दोपहर की मॉम पूरा बिस्तर गड्डा लगाकर जमीन पर सेट की थी मानो आज कुछ हो. उनको लगा मे बाहर कही जाऊंगा ही रोज की तरह लेकिन मे समझ गया था तो गया ही नहीं. और उसी दिन उनकी ट्रेन भी थी.

तो ये लोग सोचे अब क्या करे कैसे क्या तो वो बोली भी एक दो बार दिन भर घर मे रहते जाना नहीं कुछ काम या ये कोई काम बताई भी मैं बोला शाम कों चला जाऊंगा. और इन लोगों कों वाच करने लगा. अपनी जीएफ से बात करता रहा बोलकनी मे जाकर लेकिन ध्यान रूम मे था.

बार बार अंदर बाहर भी कर रहा था ताकि कुछ हो ना. तुम समझ सकते होंगे मैं ये बिलकुल नहीं चाहता था ऐसा कुछ हो. लेकिन अब सोचता तो बहुत पछताता हूँ की होने देता और उन लवली की पिक ले लेता या रिकॉर्ड कर लेता तो बाद मे मॉम से पूछता.

लेकिन तब तक ये सब गंदा विचार नहीं रहता था. फिर ज़ब उनको लगा काम नहीं बन पाएगा तो वो जाने के लिए रेडी हुए और निकल भी गए. लेकिन उस दिन ट्रेन लेट की वजह से वो वापस भी आ गए और फिर शुरू हुआ असल्ली खेल.

आगे की स्टोरी आप लोग तय करेंगे इसको प्यार देकर और ढेर सारे कमेंट से अपनी राय देकर पार्ट टू मे बताऊंगा किसी तरह से उनकी चुदाई के लिए मे सोने का नाटक कर हॉल मे चला गया और उसके कुछ ही देर बाद जो होते देखा जिसको देकर उस दिन मुझे तीन बार मुठ मारना पड़ा उनको सोचकर. आसा करता हूँ कहानी का पहला भाग आप लोगों कों पसंद आया होगा… अगर आप लोग कों इसका दूसरा भाग भी चाहिए तो मैसेज करे या मेल कर जल्द इसका दूसरा पार्ट भी लिखूंगा. और उनसे जुड़ा बहुत सा अनुभव भी साझा करूंगा..

Visited 49 times, 2 visit(s) today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *