भाभी की गांड से टट्टी निकाली

Other Languages

Bhabhi Sex Story
(भाभी की गांड से टट्टी निकाली)

हैलो दोस्ती मैं आपका दोस्त रोहित फिर से हाज़िर हूं अपना एक और एक्सपीरयंस लेकर ये कहानी मेरे और मेरी पड़ोस की भाभी के बीच हुई जबर्दस्त भाभी की चुदाई के बारे में है मुझे पूरा यकीन है कि आपका लंड इस कहानी को पढ़कर पानी ज़रूर छोड़ेंगा तो अब ज्यादा बोर ना करते हुए मैं आपको सीधा इस कहानी के बारे में बताता हूं

ये लास्ट मंथ की बात है हमारी सिटी में बारिश बहुत ज्यादा हो रही थी बारिश का आलम ये था कि पिछले 1 हफ्ते से बारिश लगातार जारी थी लेकिन एक सुबह बारिश नहीं हुई और हलकी सी धूप निकली तो हमारे मकान के बगल में जो नेहा भाभी रहती है उन्होंने छत पे अपने कपड़े सूखने के लिए डाल दिए bhabhi sex story

मैं आपको नेहा भाभी के बारे में बता दूं – उनकी उम्र 34 होगी रंग गोरा है लम्बे बाल है फिगर 34-30-36 होगा एकदम मस्त सामान लगती है जिसे मोहल्ले का हर मर्द चोदना चाहता है भाभी के पति पुलिस में है तो कोई ज्यादा कुछ नहीं कर सकता बस सपनों मे उनके साथ करके ही खुश हो सकता है

तो अब कहानी पे आते है भाभी ने कपड़े सूखा दिए छत पे और नीचे चली गई मैं छत पे अपनी एक्सरसाइज करने में बिजी हो गया इतने में अचानक बारिश स्टार्ट हो गई तो भाभी जल्दी से ऊपर आई और कपड़े उतारने लगी बारिश तेज हुई तो जल्दबाजी में उनकी ब्रा और पैंटी जो हमारी छत की साइड डाली थी वो ले जाना भूल गई मैंने भी मोके का फायदा उठाते हुए वो उतारी और इमेजिन किया की कैसे ये ब्रा और पैंटी भाभी की चूत और बूब्स पे लगे रहते है bhabhi sex story

फिर मैं वैसे ही हाफ न्यूड मैं सिर्फ शॉर्ट्स में था ऊपर कुछ नहीं पहना था छत के रास्ते से नीचे गया उनके मकान में तो भाभी कमरे में झुक कर कुछ ढूंढ रही थी झुकने की वजह से भाभी की गांड मेरी तरफ थी जो गाउन में क्लियर चमक रही थी ये देख कर ही मेरा लंड पूरा तन गया और शॉर्ट्स में तम्बू बन गया मैं इस नज़ारे में इतना खो गया की मुझे पता ही नहीं चला कबसे भाभी मुझे घूरे जा रही थी उनकी आवाज़ से मेरा ध्यान टूटा

भाभी – कुछ काम था ?

मैं – अरे नहीं भाभी वो आपके कपड़े

इतना बोलने पे मुझे ध्यान आया मेरे लंड का और मैंने उन्ही के सामने लंड ठीक किया

भाभी – क्या ?

मैं – आप छत से कपड़े लाना भूल गई थी तो मैं ले आया इतना बोलकर मैंने ब्रा और पैंटी उनके सामने कर दी

भाभी नजर झुकाते हुए – ऊऊह्ह्ह्हह्ह तभी मैं कबसे ढूंढ रही थी इन्हे मिल ही नहीं रही थी थैंक यू तूने मेरी टेंशन कम कर दी मैं तो सोच रही थी की कहां चली गई अब मैं क्या पहनुंगी ?

मैं – मतलब अभी अपने नहीं पहनी हुई क्या ?

भाभी – घूरते हुए क्या ?

मैं – जो मैंने अभी लाकर दी आपको ?

भाभी – तुझे बड़ा इंटरेस्ट है जानने में ?

मैं – नहीं मैंने तो ऐसे ही पूछ लिया वैसे चाहो तो बता दो ?

भाभी – अच्छा चल ये बता सुनना चाहेगा या देखना ?

इतना बोलकर वो मेरे करीब आ गई मैंने भी मौका पकड़ा और उनकी कमर में हाथ डालकर उनको खुद से चिपका लिया और उनके होंठों पर अपने होंठ रख कर किस करना शुरू कर दिया वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी bhabhi sex story

atOptions = { ‘key’ : ‘57455d32813293803b3ba1b595ef9476’, ‘format’ : ‘iframe’, ‘height’ : 250, ‘width’ : 300, ‘params’ : {} }; document.write(”);

मैं – उउउउमममह्ह्हह भाभी लाजवाब है तुम्हारे होंठ

भाभी – गजब आप से सीधा तुम

मैं – हां तो अभी तो तुम ही हुआ है थोड़ी देर बाद तो बहुत कुछ होगा

भाभी – बड़ी आग लगी है तेरे लंड में चल दिखा मुझे कितनी गर्मी है तेरे में ?

मैं – गर्मी भी दिखाऊंगा और बारिश भी करूंगा पहले मुझे मज़ा लेने दे

मैंने फिर अपने दोनों हाथो को उनके बड़े बड़े मम्मों पे रख कर मसलना शुरू कर दिया एकदम रुई की तरह सॉफ्ट सॉफ्ट थे उनके मम्मे उनकी सिसकारियां शुरू हो गई

भाभी – आआह्ह्ह ऊऊह्ह्ह्हह आराम से कर ना

मैं तो भूखे शेर की तरह टूट पड़ा मैंने देर ना करते हुए उनकी गाउन को उतार दिया और उनको नंगा कर दिया नंगी होने पे वह एकदम संगमरमर की मूरत लग रही थी वो उन्होने भी एक ही झटके में मेरा शार्ट खोल दिया और मेरे तने हुए लंड को देख कर बोली bhabhi sex story

भाभी – तेरा लंड तो बड़ा सख्त और मोटा है इससे तो मेरी चूत की खूब चुदाई होगी

मैं – चुदाई भी होगी और भराई भी

भाभी – क्या मतलब ?

मैं – लंड को मुंह में लेकर मजे कर

उन्होने झट से मेरे लंड को एक बार में ही गले तक उतार लिया क्या मस्त लोड़ा चूस रही थी यार वो मैं तो उनके चूसने में उनके मुंह में ही झड़ गया उन्होने मेरा सारा पानी निगल लिया bhabhi sex story

भाभी – मस्त टेस्ट है तेरे पानी का तो उऊऊउमममह्ह्ह आह आह चल अब मुझे मज़ा दे तू

अब उन्होने अपने पैर खोले और मैंने अपना मुंह उनकी चूत पे रख दिया क्या मस्त स्मेल आ रही थी उनकी चूत से मैं तो जैसे जन्नत में था मैंने जैसे ही अपनी जीभ उनकी चूत में डाली वो छटपटा गई मैंने उनकी चूत को खाना और चाटना शुरू किया और वो मेरा सर अपनी चूत में दबाने लगी थोड़ी देर बाद उनकी सिसकारियां तेज होने लगी

भाभी – आआह्ह्ह्हह्ह ऊऊऊह्ह्हह्ह्ह्ह ईएएसस्सस्स आअह्ह्हह ममममहहहहह मज़ा आआआ रहा है आआआ ऊईईई चाट और चाट

इतना बोलते बोलते उन्होने अपनी चूत से फव्वारा निकाल दिया जो सीधा मेरे मुंह में था नमकीन नमकीन पानी मैंने सब चाट चाटकर साफ़ कर दिया bhabhi sex story

भाभी – अब मत तड़पा और डाल दे अपना लंड मेरी चूत में

मैं – एक शर्त पे

भाभी – बोल मुझे सब मंजूर है तेरे लंड के लिए तो पैसे चाहिए वो भी दे दूंगी बस इस लंड से फाड़ दे मेरी चूत

मैं – पैसे नहीं तेरी गांड भी चाहिए मुझे

भाभी – थोड़ा सोचने के बाद हां ठीक है लेकिन गांड पहली बार चुदेगी तो आराम से करना

मैं – तेरा पति गांड नहीं मारता क्या ?

भाभी – उनके लंड से चूत ही शांत नहीं हो पाती गांड का नंबर कहां से आएगा चल उसको मां चुदाने दे तू लंड डाल ना

मैंने उनकी टांगें चौड़ी की और अपना लंड उनकी चूत पे रगड़ने लगा और भाभी को मदहोशी चढ़ने लगी उनकी सिसकारियां फिर से शुरू हो गई जो मेरे लंड को और भी ज्यादा खड़ा कर रही थी bhabhi sex story

भाभी – आअह्ह्ह्ह ऊऊह्ह्हह्ह मैं तेरीइइइ रंडी हूं ऊऊऊ फाड़ दे मेरीइइइ चूऊततत

मैंने भी अपना लंड उनकी चूत में डालना शुरू किया तो लंड का टोपा घुसा तब तक तो उनके कुछ नहीं हुआ लेकिन जैसे ही बाकी का लंड एक झटके में उनकी चूत में उतरा तो उनकी आंखे बाहर आ गई वो चिल्लाने लगी

भाभी – ऊई मां मर गईईइ आ आह बाहर निकाल इसे आआह्ह्ह्हह मार डाला आह हा

मैंने अपनी पकड़ मजबूत रखी और थोड़ी देर उनके नार्मल होने तक रुका जैसे ही वो नार्मल हुई मैंने झटके लगाने शुरू कर दिए अब तो उने भी मज़ा आने लगा और वो गांड उछाल उछाल कर लंड लेने लगी bhabhi sex story

भाभी – आह आह उफ्फ आह मेरी जान फाड़ दे चूततत आआह्ह्ह और तेजजज

बाहर बारिश हो रही थी और अंदर भाभी चुद रही थी उस दिन मैंने शाम तक उनको 3 बार चोदा तीसरी बार मैं जब झड़ने वाला था तो मैंने अपने झटके बढ़ा दिए और जितनी देर में मैं भाभी को बोलता उससे पहले ही मैंने तेज धार के साथ अपना पानी भाभी की चूत में ही निकाल दिया

भाभी बोली कोई बात नहीं मैं गोली खा लुंगी तू जब भी मुझे चोदे तो ऐसे ही अपना गरम गरम पानी मेरी चूत में निकाला कर अब तो मैं तेरी ही हूं जब भी तेरा मूड बने आ जाना अपनी बीवी को चोदने bhabhi sex story

फिर हम दोनों कुछ देर ऐसे ही नंगे पड़े रहे मेरा मूड फिर बना तो मैंने भाभी की गांड को सहलाना शुरू किया

तो भाभी बोली – अभी नहीं इसकी चुदाई तू अब कल करना शुरुवात ही गांड से करेंगे कल

फिर मैंने अपना शार्ट पहना और छत के रास्ते से वापस अपने घर आ गया और खाना खाकर अपने कमरे में चुप चाप चला गया उसके बाद कब आंख लगी पता ही नहीं चला जब आंख खुली तो देखा सुबह हो गई थी मां मुझे मेरे कमरे में उठाने लगी उठ जा बेटा सुबह हो गई है

मैं उठकर उठकर बाथरूम में जाकर फ्रेश होने लगा मैंने बाथरूम में देखा वहां मां की पैंटी और ब्रा पड़ी थी मैंने मां की पैंटी उठाई और उसे सुंगने लगा मां की पैंटी से बहुत मदहोश करने वाली स्मेल आ रही थी मेरा लंड खड़ा हो गया अब मेरे अंदर मां की चुदाई करने की फीलिंग आने लगी मैं फ्रेश होकर बाहर आ गया bhabhi sex story

मां मेरे लिए चाय लेकर आई जब वो मुझे चाय देकर मुड़ी और मेरा ध्यान मां की गांड पर गया मां की चलते हुए गांड बहुत हिल रही थी आज मैंने पहली बार मां की गांड को बहुत गौर से देखा था उनकी गांड बहुत बड़ी थी मां की गांड देखकर मुझे भाभी की गांड याद आ गई आज तो भाभी की बड़ी गांड मारनी है

मैं चाय पीकर छत पर चला गया और ऊपर जाकर देखा आज भी आसमान में बादल छाए हुए थे मौसम बहुत ही सुहावना हो चुका था और मैं अपनी छत से भाभी की छत पर चला गया और मैं सीढ़ियों से नीचे उतर कर भाभी के पास चला गया भाभी मुझे देखकर बोली क्या बात है तुम सुबह ही आ गए

मैंने भाभी को कहां आपकी टाईट गांड मुझे आपके पास खीचकर ले आई भाभी मुस्कुराने लगी और मैंने भाभी को कसकर पकड़ लिया भाभी बोली अभी थोड़ी देर पहले मेरे पति घर से निकल कर गए हैं अगर तुम उनके सामने आ जाते तो पता नहीं क्या होता मैंने कहा अब छोड़ो कुछ हुआ तो नहीं bhabhi sex story

मैंने भाभी को अपनी बाहों में उठाया और उनके बिस्तर पर ले गया और भाभी को चूमने लगा भाभी भी मस्त होने लगी मैंने धीरे धीरे भाभी के कपड़े उतार दिए और भाभी को नंगी कर दिया और भाभी को उल्टी लिटाकर उनके चूतड़ों को चूमने लगा भाभी समझ गई थी आज उसकी गांड का छेद खुलेगा

मैंने भी अपने कपड़े जल्दी से उतार दिए और नंगा होकर भाभी को चूमने लगा मैं सुबह से ही बहुत उत्तेजित था मां की पैंटी और गांड देखकर मैंने भाभी को घोड़ी बनने को कहा भाभी घोड़ी बन गई मैंने अपने लंड और उनकी गांड पर थूक लगाया और अपना लंड भाभी की गांड पर रखा और धीरे धीरे भाभी की गांड में डालना शुरू किया

भाभी आह आह्ह्ह्ह उफ्फ हाए मेरी मां मैं मर गई मत डालो मेरी गांड फट जायेगी बाहर निकालो अपने मोटे लंड को मैंने भाभी की एक ना सुनी और अपना लंड धीरे धीरे आगे पीछे करने लगा भाभी चिलाने लगी भाभी को बहुत दर्द हो रहा था क्योंकि भाभी की गांड बहुत टाईट थी फिर थोड़ी देर मैंने भाभी की घोड़ी बनाकर गांड मारी bhabhi sex story

फिर मैंने भाभी को सीधा लेटने को कहा भाभी सीधा लेट गई मैं भाभी के ऊपर आकर उनके मम्मों को मुंह में डालकर लंड उनकी गांड में डालने लगा भाभी को सीधा लिटाकर उनकी गांड में लंड डालने का मज़ा ही कुछ और था मैंने धीरे धीरे अपने धक्कों की स्पीड बड़ा दी भाभी आह आह उउउफफफ उउउईई आह आह करने लगी

मैंने भाभी को मम्मों से पकड़ कर उनकी गांड की तेज तेज चुदाई करनी शुरू कर दी भाभी चिलाने लगी मेरे लंड को भाभी की टट्टी लग गई टट्टी थोड़ी लाल थी लगता था भाभी की गांड से खून निकला होगा 15-20 मिनट भाभी की चुदाई करने के बाद मैंने अपना सारा वीर्य उनकी गांड में निकाल दिया और भाभी के ऊपर पड़ा रहा 

Visited 64 times, 1 visit(s) today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *