भाई को मुठ मारते देख कर मैं भी चुदासी हुई

Bhai Behan Sex Story

Sister Painful Chudai

मैं आपकी मोनिका शर्मा है. मेरी उम्र 21 साल है, रंग गोरा है. मेरा साइज 34-32-36 हैं। मैं आज आपको अपनी लाइफ की रियल सेक्स स्टोरी कुंवारी लड़की की चुदाई की बताने जा रही हूं। मेरे बूब्स और चूतड काफी बड़े हैं जो भी देखता है बावला हो जाता है. Sister Painful Chudai

मेरा एक छोटा भाई है अमन , जिसकी उम्र 18 साल से कुछ माह ज्यादा है. जिस समय की ये घटना है, उस समय मैं बीएससी के दूसरे साल में थी और मेरा भाई बारहवीं में था. हम दोनों घर पर एक ही कमरे में रह कर साथ साथ पढ़ते थे. कमरे में बेड बड़ा था, इसलिए उसी पर एक साथ सो जाते थे.

एक दिन हम दोनों भाई बहन एक ही बेड पर सो रहे थे कि मुझे एक सपना आया कि कोई मुझे चोद रहा है तोह अचानक मेरी आंख खुल गई और मैंने देखा कि मेरा भाई अपने लंड की खाल को ऊपर नीचे कर के अपना लन्ड को हिला रहा था।

मेने अपनी दोनो आंखों को हल्की सी खोल कर चुपचाप उसे देखती रही. मैंने देखा कि मेरे भाई का मोटा लंड करीब 9 इंच लम्बा ओर 2.5 इंच मोटा होगा। वो बड़ी मस्ती से अपने लंड को हिलाए जा रहा था. कुछ देर बाद मेरे भाई के लंड से काफी सारा पानी निकला उसे एक रुमाल से पोंछ कर साफ कर के वह कुछ देर बाद सो गया.

जब मैंने देखा कि मेरे भाई का लंड काफी मोटा और लम्बा है, तो उसके लंड को देखकर मेरी नींद उड़ गयी. मैं भी अपनी चुत में उंगली कर लेती थी. मगर मुझे किसी के लंड से चुदने में बड़ा डर लगता था कि कैसे किसी से चुदने की बात कहूंगी.

अपने सगे भाई का मोटा लंड देख कर आज फिर से मेरी शरीर मे चुदाई की आग जाग गई थी और मैंने सोच लिया था कि कुंवारी लड़की की चुदाई अपने भाई से होकर रहेगी. मैंने सोचा कि कैसे भी करके अपने भाई से चुदाई करवाऊँगी.

दूसरे दिन जब रात हुई, तो मैंने अपनी पैंटी और ब्रा उतार कर मैक्सी पहन ली और मैं सोने का नाटक करने लगी. मेरा भाई अभी जाग रहा था. मैंने सोने का नाटक करते हुए अपनी मैक्सी धीरे धीरे ऊपर को कर ली और मेरी चूत ओर गांड़ साफ नजर आने लगी.

जब मेरा भाई मेरी ओर घूमा, तो उसने मेरी सफाचट चूत ओर गान्ड को देख ली. मेरी जवानी और चिकनी चुत गांड़ को देख कर उससे रहा नहीं गया. वो मेरी चुत ओर गांड़ को ध्यान से देखने लगा. फिर कुछ देर बाद उसने मेरी आंखों की तरफ देखा.

मेने अपनी आंखो को बंद कर ली थी ओर सोने का नाटक कर रही थी. मगर मेरी नजरें छिप कर उसकी हरकतों को देख रही थीं. मेरा भाई धीरे धीरे मेरे पास आकर लेट गया. ओर अपना लन्ड बाहर निकल कर हिलाने लगा।

मैंने भी सोते हुए अपनी करवट ली, तो मेरी गांड उसकी तरफ हो गई और मेरी नाइटी, मेरी चुत और गांड दिखाते हुए काफी ऊपर को उठ गई. आप यूं समझो कि मेरी नाइटी मेरी कमर तक आ गई थीं जिस से मेरी चूत ओर गांड़ साफ दिख रही थी.

मैं अब सोच रही थी कि मेरी खुली हुई गांड और चुत देख कर उसका लंड झनझना गया होगा. उसने कुछ देर तक शायद अपना लंड हिलाया, जिससे मुझे उसे बिस्तर पर हिलने का अहसास हुआ. फिर मेरे छोटे भाई ने अपना एक हाथ मेरी गांड पर रख दिया.

मुझे एकदम से झुरझुरी सी हुई मगर मैं दम साधे चुपचाप पड़ी रही, मैंने कुछ भी प्रतिक्रिया नहीं की. फिर अमन ने धीरे धीरे मेरे चूतड़ सहलाने लगा, मुझे मजा आ रहा था. उसके हाथों की गर्मी से मेरी चुत की जमी हुई मलाई को पिघला रही थी. जिस से मेरी चूत का पानी निकल गया था.

फिर उसने हाथ कुछ अन्दर किया और अब अमन मेरी पिघलती चूत को ऊपर से सहलाने लगा. मुझे बेहद सनसनी हो रही थी. उसकी हरकतें भी परवान चढ़ने लगी थीं. मुझे ऐसा लग रहा था, जैसे वो अपने एक हाथ से मेरी चुत को सहला रहा है और दूसरे हाथ से अपना लंड हिला रहा है.

अब मैंने खेल शुरू करने का मन बना लिया था. उसकी एक उंगली ने मेरी फांकों के बीचे घुसने का प्रयास किया. तो मैं समझ गई कि इसकी उंगली मेरी गीली चुत महसूस करके मुझे जगा हुआ समझ जाएगी और खेल खराब हो जाएगा.

मैंने एकदम से उठते हुए उससे कहा- अमन तुम ये क्या कर रहे हो? मैं तुम्हारी बड़ी बहन हूँ.

वो मेरे इस तरह से अचानक उठने से एकदम से डर गया. मैंने सही अंदाजा लगाया था. उसका लंड एकदम तना हुआ उसे हाथ में दबा था. अमन ने मेरी आंखों का पीछा किया, तो वो अपने लंड को ढांपने लगा. मैंने उससे गुस्से में कह रही थी तो वो सहम गया था. कि कहीं मैं पापा से इस बात की शिकायत न कर दूँ. वो सर झुका कर बैठ गया.

फिर मैंने पूछा- कल क्या कर रहे थे तुम?

वो कुछ न बोला, वो डरा हुआ था.

मैंने कहा- डर क्यों रहे हो? बताओ … मैं तुम्हें कुछ नहीं बोलूंगी.

पर वो कुछ न बोला. मैंने भी उससे ज्यादा कुछ नहीं कहा और लेट गई. वो बैठा रहा.

मैंने उससे कहा- अब लेट जाओ… बैठो क्यों हो?

वो भी मुझसे कुछ दूरी बना कर लेट गया. हम दोनों लेट गए. मैंने कुछ देर बाद फिर से अपनी आंखें मूंद लीं और अपनी मैक्सी ऊपर को कर ली. मेरी खुली हुई गांड अमन की ओर थी. मेरे ऐसा करने से बिस्तर पर कुछ कम्पन हुआ. मगर वो मेरी तरफ नहीं घूमा.

मैंने नंगे ही पड़े रह कर उसे अपनी गांड दिखाने का फैसला कर लिया था. कुछ पल बाद अमन जब मेरी ओर घूमा, तो वो मेरी नंगी गांड देख रहा था. वह समझ गया था कि मैं अपनी चूत की चुदाई करवाना चाहती हूँ. उसका लंड खड़ा हो गया था.

मैंने उसी समय सीधी होकर अपनी टांगें खोल दीं और मेरी चूत खुली हवा में अपने भाई के लंड का इन्तजार करने लगी. मेरी फैली हुई टांगें और खुली हुई सफाचट चूत देख कर वो फिर से गरमा गया. अमन धीरे धीरे से मेरे पास आया और मेरी चूत सहलाने लगा. मुझे गर्मी आने लगी. मैं चुपचाप सोने का नाटक कर रही थी.

मेरी तरफ से उसने कुछ भी विरोध नहीं देखा, तो मेरा छोटा भाई अमन की हिम्मत बढ़ गई तो वह मेरे मम्मों को दबाने लगा. मुझे उसके हाथ से अपनी चूचियों को मसलवाने में बड़ा मजा आ रहा था. फिर मेने अपनी करवट बदल ली जिस से उसकी गांड फटी लेकिन मैंने जब उससे कुछ नहीं कहा, तो उसकी समझ में आ गया कि उसकी बहन चुदने के लिए मरी जा रही है. पर कुछ बोल नही रही है।

फिर मेरा छोटा भाई अमन उठा ओर अपना मुंह मेरी गान्ड के बीच मे लगा दिया ओर अपने हाथो से मेरे चूतड फेला के मेरी गान्ड के छेद को चाटने लगा जिस से मेरे शरीर में बसना ओर बढ़ गई थीं अमन ने देखा कि चूत से पानी आ रहा है.

उसने एक उंगली मेरी गान्ड मे घुसा दी ओर चूत को चाटने लग ओर गांड़ मे उंगली अंदर बाहर कर रहा था बोल रहा था दीदी उठ जाओ साथ मे करते है पर मे उठी नही लेटी रही उसने मुझे वैसे ही छोड़ दिया फिर छुआ भी नहीं ।

अमन जगह मे आ कर सो गया मेरी अंदर आग लगी हुईं थीं पर मे क्या करती अपनी उंगली से खुद को शांत किया ओर सो गई। फिर अगले दिन अमन बोला दीदी आप मुझे इतना डाटा आप ने इसमें आप की भी गलती हैं आप अपने कपडे ठीक कर के सोया करो.

फिर मेने बोला मे तो अपने कपडे ठीक ही पहने थे सोते समय ऊपर हो जाते है तो इसमें मेरी क्या गलती है तो जो रात हुआ सो तू भूल जा अपनी लाइफ एंजॉय कर बस ओर मौके का मजा ले, कोई बोले या ना बोले तुझे जो करना हैं कर पर घर की बात घर मे ही रहनी चाइए चल थी है अब ओर आगे से मत करना जो तुम रात मेरे साथ कर रहे थे.

फिर रात को मेने उस मैक्सी से भी छोटी मैक्सी पहनी थीं आज ओर अमन के आने से पहले चादर ओढ़ कर सोने लगी. अमन पढ़ने लगा तो मेने करवट बदली तो चादर हट गई ओर मेरी मैक्सी दिख गई जिस से वह भी कुछ देर बाद आ कर लेट गया और अपना लन्ड बाहर निकाला कर हिलाने लगा. “Sister Painful Chudai”

वह मेरा बहुत ज्यादा करीब आ गया था अब उसका लंड मेरी गांड में चुभ रहा था वो और भी ज्यादा मेरी गांड में घुसा जा रहा था. मगर मुझे उसका लंड बड़ा अच्छा लग रहा था. वो आगे हाथ करके मेरी चूचियों को मसलने लगा और अपना मुंह मेरे कान पास कहने लगा मुझे एक बार मौक़ा दो ना दीदी मैंने कुछ नहीं कहा और सीधी लेट गयी.

अमन ने मेरी हां समझ ली और मेरे सामने आकर बैठ गया. मैंने अपनी हलकी हलकी आंखें खोल के उसके खड़े लंड को देखने लगी थी. उसने मेरी दोनों टांगों को पकड़ कर फैला दिया. जिससे मेरी गुलाबी बुर उसके सामने खुल गई.

मेरी गुलाबी चूत देख कर अमन से रहा न गया. वो मेरी चूत पर अपनी नाक रख कर बुर सूंघने लगा. उसकी नाक की नोक मुझे अपनी चुत के दाने को मज़ा दे रहा था. एक पल बाद अमन मेरी बचूत को चाटने लगा. उसने अपनी जीभ को मेरी चूत की फांकों में ऊपर से नीचे फेर दिया. चूत चटाई से मेरे मुंह से आह आह की सिसकारियां भरने लगी.

वो समझ गया कि उसकी दीदी चुदने को तैयार है. ये देख कर उसने मेरी चूची चूसते हुए मुझसे कहा दीदी अपने कपड़े उतारो न तो मेने कुछ नही कहा. अमन को गुस्सा आ गया तो उसने मेरे एक थप्पड़ मारा तभी भी मे कुछ न बोली उसने बोला ठीक है दीदी आप नीद मे चुदना है फिर उसने मेरी मैक्सी उतार दी. “Sister Painful Chudai”

मैंने नीचे कुछ पहना ही नहीं था. इसलिए अब मैं अपने छोटे भाई के लंड से चुदने के लिए उसके सामने पूरी नंगी पड़ी थी. मैंने अमन की आंखों में देखा, तो उसकी चुदाई से भरी लाल आंखें मेरी सीलपैक चूत पर ही लगी थीं.

उसने अपने हाथ से मेरा हाथ पकड़ा और अपने लन्ड पर ले गया ओर मुट्ठी बाध कर अपने हाथ से हिलाने लग ऐसे करते करते उसने अपना हाथ हटा लिया मे तभी भी उसका लन्ड हिला रही थी ऐसा करते ही अमन समझ गया की दीदी चुदाने के लिए तैयार हैं। तो उसने जल्दी से अपने सारे कपड़े उतार दिए.

अब वो भी मेरे सामने एकदम नंगा हो गया था. वो मेरे बाजू में आकर मेरे दूध मसलने लगा ओर उसने झुक कर मेरी एक चूची को अपने मुँह में भर लिया. मेरी मीठी सी सीत्कार निकल गई और मैं मस्त होने लगी. अमन ने अगले एक मिनट में मेरी चूचियों को चूस चूस कर लाल कर दिया था.

वो मेरी दोनों चूचियों को बेतहाशा चूस चाट रहा था. अपने हाथों की उंगलियों से मेरे निप्पल मींज रहा था. अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था मे बिना पानी के मछली कि तरह तड़प रही थी मेरे पूरा शरीर पसीने से भीग गया था हम दोनों बहुत गर्म हो गए थे.

फिर अमन ने मेरी हालत देखते हुए अपने लंड पर थूक लगाया और मेरी टांगों के बीच आ गया. उसने लंड को चूत के छेद पर रखा और मेरी तरफ देखा की मेरी आंख खुली है या बंद मैंने अपनी गांड उठा कर उसे हरी झंडी दे दी और उसी पल मे मेरे छोटे भाई ने मेरी सीलपैक चूत में अपना लंड ठोक दिया. “Sister Painful Chudai”

उसके लंड का सुपारा मेरी चुत की फांकों में फंस गया था. मैंने हल्का सा दर्द महसूस किया और उसकी तरफ देखा. उसने फिर से एक धक्का लगा दिया और मेरे भाई का आधा लंड मेरी अनचुदी चूत में घुसता चला गया. उसका लंड मोटा था और मेरी चुत के लिए किसी मर्द का पहला लंड था.

मेरी चुत चिर सी गई थी और मुझे बेहद तेज दर्द हुआ. मुझे ऐसा लगा कि किसी ने गरम सरिया मेरी चुत में पेल दिया हो. मेरी सांसें रुकने लगी थीं और मैंने अपने हाथों की मुट्ठियाँ भींच ली थीं. अगले ही पल मैं जोर से चिल्लाने लगी. मेरी चीख से घबरा कर अमन ने अपना लंड चुत से बाहर खींच लिया. मुझे मानो राहत मिल गई थी.

वो मेरी तरफ ऐसे देखने लगा जैसे पूछ रहा हो कि क्या हुआ?

मेने फिर भी कुछ नही कह चादर ओढ़ ली ओर सोने लगी. मुझे दर्द तो हुआ था मगर चुत चुदवाने की बड़ी लालसा भी थी. आज मेरे भाई ने मेरी चूत में एक बार अपना लंड पेल दिया था, तो अब मुझे उसी के लंड से अपनी प्यास बुझानी थी. अमन मेरे लिए एक सेफ बन्दा है. उसके लंड से मैं जब चाहे चुद सकती थी. “Sister Painful Chudai”

कुछ देर बाद मैंने हिम्मत करके उसे फिर से लंड पिलवाने के लिए अपनी चादर हटा दी। इस बार उसने पास की टेबल से क्रीम की डिब्बी उठाई और मेरी चुत में उंगली से ढेर सारी क्रीम लगाने लगा. फिर उसने अपने लौड़े पर ढेर सारी क्रीम चुपड़ ली.

मेरा छोटा भाई अनम एक बार फिर से मुझे चोदने के लिए तैयार था. इस बार मैंने मन मे ही सोच लिया था कि चाहे कुछ भी हो जाए, मैं चिल्लाऊंगी नहीं. इस बार अमन ने भी लंड को चुत की फांकों में सैट किया और मेरे ऊपर चढ़ गया.

उसने लंड को चुत की दरार में लगाए हुए ही मेरे मुंह पर हाथ रख लिया के दबा लिया. मैं समझ गई कि ये अब मुझे चिल्लाने का कोई मौका नहीं देने के मूड में है. मैंने अपने चूतड़ हिलाए, तो वह समझ गया की लन्ड लेने को तैयार हैं उसने लंड पर दबाव देते हुए एक धक्का लगा दिया.

क्रीम की चिकनाई ने काम कर दिया था. उसका पूरा लंड एक ही बात में मेरी चूत में घूसता चला गया. मुझे बहुत तेज दर्द हुआ. मगर अमन ने मेरा मुँह को बंद किये हुए था. मेरे हाथ पांव छटपटाने लगे और मेरी हालत बुरी हो गई. मेरी चूत से खून निकल आया था.

अपना पूरा लंड मेरी चुत में घुसाने के बाद अमन कुछ देर रुक गया. कोई 5 मिनट बाद अमन के लंड ने मेरी चूत में जगह बना लिया था. अब वो हिलने लगा था और मुझे अपनी चुत में मीठा मीठा दर्द होने लगा था. मेरी छटपटाहट भी कम हो गई थी.

तब अमन ने मेरे मुँह से अपना हाथ हटा कर मुझे नशीली आंखों से देखा और लंड आगे पीछे करना शुरू कर दिया. उसके लंड की मोटाई से मुझे अब भी हल्का दर्द हो रहा था मगर अमन ने मेरी चूचियों को चूस कर मुझे दर्द की जगह सुख देना शुरू कर दिया था. “Sister Painful Chudai”

एक दो मिनट की चुदाई के बाद मुझे मजा आने लगा था और मैं गांड हिलाते हुए अपने छोटे भाई का मोटा लंड अपनी चूत में लेने लगी थी. अब धकापेल चुदाई का दौर शुरू हो गया था. अमन एक मदमस्त आदमी की तरफ मुझे चोद रहा था.

उसके लंड की ताकत के आगे मेरी चुत अब तक दो बार पानी छोड़ चुकी थी… मगर उसकी शैतानी ताकत कम होने का नाम ही नहीं ले रही थी. उस रात मेरे छोटे भाई ने मुझे जीभर के चोदा और मेरी हालत एक अधमरी कुतिया सी कर दी.

मेरे मुंह से सिसकारियां निकल रही थी आह आह. अमन ने मुझे चोदता हुआ बोला बस दीदी कुछ देर और रुक जाओ. दो मिनट ताबड़तोड़ लंड पेलने के बाद अमन ने पानी मेरी चूत में ही निकल गया. वो झड़ने के बाद कुछ देर मेरे ऊपर लेटा रहा.

फिर वो मेरे ऊपर से नीचे उतरा. मैंने अपनी फट चुकी चूत साफ की. वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुराने लगा. अपना मुंह दूरी तरफ कर लिया था. कुछ देर बाद मे उठी बाथरूम जा कर अपने आप को साफ किया ओर आ कर लेट गई. अमन भी बाथरूम गया फ्रेश हो कर आया ओर मेरे पास ही लेट गया ओर मेरे चूचे पर हाथ रख कर सो गया. अगले दिन अमन मेरे लिए गोली ले आया. “Sister Painful Chudai”

मैंने पूछा- ये किस चीज की गोली है?

उसने कहा- दीदी ये विटामिन की गोली है आपके अंदर विटामिन की कमी लगती है इसलिए मे ले आया।

पर मे समझ गई थी कोई लफड़ा न हो जाए, इसलिए ये गोली खा लो. मैंने मुस्कुरा कर गोली खा ली. फिर मेने कहा दीदी दिन मे भी करे क्या फिर मैंने गुस्से मे कहा क्या करना हैं तुझे ज्यादा खुलने की जरूरत नही हैं छोटा हैं तो छोटा रह.

इस से अमन समझ गया था दीदी खुल कर नही चुदना चाहती हैं वो अपने शांत रह कर ही करवाना चाहती हैं. अमन की चुदाई से मे ठीक से चल भी नहीं पा रही थी दर्द हो रहा था मेरी चूत मे ऐसा देख कर अमन बोला दीदी मे आप की मदद कर देता हु.

मेने उसे मना कर दिया बोला मे सोने जा रही हु मेरी कमर की मालिश कर सकता हैं क्या तू उसने हा बोला मेने उसे बोला मैं कमरे मे जा रही हु तू आ जाना। उस दिन मेने शॉर्ट निक्कर ओर टॉप पहन रखा था मै कमरे मे जा कर लेट गई.

अमन भी सरसों के तेल की बोतल ले आया उसने कहा दीदी ये अपना टॉप को उपर करो नही तो तेल से गंदा हो जायेगा तो मेने उसे ही कहा गर्दन तक कर दे. उसने उसको उठा कर गर्दन तक कर दिया मेने उसे कहा लाइट बंद कर दे पहले तू उसने लाईट ऑफ कर दी फिर कमरे मे अधेरा हो गया फिर दिख भी रहा था. “Sister Painful Chudai”

अमन मालिश करने लगा अमन ने कहा दीदी आप के निक्कर पर तेल लग रहा है तो मैंने थोड़ा हल्का सा निचे कर दिया. मेरे चूतड़ों की लाइन दिखने लगी अमन ने अपना लन्ड भी बाहर निकाल लिया था और मेरी मालिश कर रहा था.

अमन अपना लंड मेरे चूतड़ों के बीच मे कर रहा था मालिश करते करते अमन का लन्ड का पानी मेरी कमर पर ही गिरा कर उस से मेरी मालिश कर दी। मालिश करवाते मे कब सो गई मुझे कोई होस नही रहा अमन ने देखा मे सो गई हु तो वो भी मेरे कपडे कर के वहा से चल गया.

हम दोनो भाई बहन के बीच ऐसा ही होता रहता है पर हम लोग आपस मे खुले नही है पर दो या तीन दिन मे चुदाई करते रहते है. मालिश करवाते भी चूदी भी हु वो किसी ओर दी बताओगी अब अगली बार मिलते है. दोस्तो आप लोग भी अपनी मां बहन ऐसे ही चोद सकते हो एक बार कोशिश कर के देखो.

Visited 1,273 times, 1 visit(s) today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *