गलती से मौसी को बाथरूम में नंगी देख लिया

Other Languages

Vasna Ki Kahani

हल्लो नमस्कार दोस्तों आप सभी का क्रेजी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर स्वागत है, दोस्तो ये मेरे जीवन की पहली सेक्स घटना है जिसे मैं लिख रहा हूं, जो एकदम असली मेरे जीवन से जुड़ी हुई कहानी है। मेरा नाम अमित है, और मैं राजस्थान से हूं। Vasna Ki Kahani

दोस्तो मेरी उम्र 22 साल है, और मैं एक हैंडसम लड़का हूं मेरी लम्बाई 6 फीट 2इंच है। और मैं कॉलेज में फाइनल में हूं। तो दोस्तो मैं आपका आता हूं, दोस्तो बात उन दिनों की है जब में 12th मे सरकारी स्कूल में जाता था मैं पढ़ाई में होशियार था परंतु हमारे गांव के स्कूल में अच्छी पढ़ाई नही होती थी.

तो मेरी मम्मी (सीमा) पापा(जिनेश), ने मुझे शहर मम्मी की बहन(मेरी मौसी) ऋतु के पास भेज दिया पढ़ने के लिए ताकि मैं पढ़कर अच्छे नंबर ला सकू और नौकरी लग सकू। तो मैं अपनी मौसी ऋतु के यहां आ गया और पढ़ने लगा.

मेरी मौसी की उम्र 36 साल है रंग एकदम गोरा, गांड़ भरी हुई है संतरे जैसे दूध देखते ही किसी का भी लन्ड फुकार मारने लग जाए चलती है तो लगता है जैसे जान ही निकल जाएगी और मेरी मौसी के दो लड़कियां ( रीमा, जीता ) जिनकी शादी हो चुकी है तो वो दोनो अपने ससुराल में रहती है, पर दो तीन महीने से आती रहती है और मेरे मौसा (संजू) विदेश रहते है जो एक साल से घर आते है.

तो जब मैं वहां रहने गया तब घर मे मौसी अकेली ही रहती थी तो मौसी को मुझे देखकर बहुत खुशी हुई क्योंकि मौसी घर में अकेली रहती थी तो घर का सारा काम अकेली करती और फिर पूरे घर में बोर हो जाती थी तो मौसी के पास मेरे जाने से अकेलापन दूर हो गया.

और मैं मौसी का काम में हाथ बटाने लगा जिससे उनका काम जल्दी हो जाता में मौसी को हमेशा आदर भाव से देखता था कभी गंदी नजर से नहीं देखता था. पर एक दिन की बात है सन्डे था और मैं स्कूल नही गया था तो उस दिन मैं लेट उठा था.

और जब मैं उठकर नहाने जा रहा था और नींद में आंखे सही से खुली नहीं थी और मौसी बाथरूम में नहा रही थी और शायद उस दिन दरवाजे के कुंडी लगाना भूल गई थी, और मैं सीधा ही बाथरूम मे घुस गया और घुसते ही मेरी आंखे बड़ी की बड़ी रह गई.

मेने देखा की मेरी मौसी एकदम नंगी मेरे सामने खड़ी थी मुझे देखकर अपनी चूत और बूब्स को छुपाने की कोशिश कर रही थी। पर थोड़ी नाकाम रही क्योंकि वो जब तक छुपाती मेने सब कुछ देख लिया था वो गोरा बदन जिसपर, गोल गोल बूब्स लटक रहे थे, केसर के दाने जैसी चूत मेरा तो लन्ड एकदम से सांप की तरह खड़ा हो गया.

और फिर मौसी ने चिलाते हुए मुझे बाथरूम से बाहर निकाल दिया और जोर जोर से गुस्सा हुई की तुम्हे नोक करके आना चाहिए था. और फिर मैं अपने कमरे में चला गया और मेरे दिमाग में वो ही सब घूम रहा था गोरे गोरे बूब्स चूत और फिर में कमरे में ही अपनी मौसी की चूत के नाम की मूठ मारी और वही पर कुछ देर पड़ा रहा.

फिर मैं नहाकर बाहर आया और मौसी की आवाज आई अमित खाना खा लो तो मैं नीचे खाना खाने गया तो फिर से मौसी ही दिमाग में घूम रही थी फिर मैने मौसी को खाना खाता हुए सॉरी बोला तो मौसी ने कहा, कोई नही बेटा गलती मेरी थी, मेने ही दरवाजा बंद नही किया था । अब वो सब भूल जाओ और पढ़ाई करो.

पर मेरा अब पढ़ाई पर कहा ध्यान रहने वाला था अब तो रोज रात को मौसी की चूत मारने के सपने देखकर ही, मूठ मारकर ही सोता हूं ऐसे करते एक हफ्ता निकल गया पता ही नही चल अब अगले सन्डे की बात है मैं नहाकर नीचे आ रहा था और मौसी बाजार से सब्जी लाने गई थी.

और वापस आते समय वो फोन पर किसी से बात करते हुए आ रही थी तभी घर की सीढ़ियों से टकराकर गिर गई और जोर से चिलाई मैं दौड़ कर बाहर गया और देखा मौसी नीचे पड़ी थी और दर्द से कराह रही थी आंसू भी आ रहे थे तो मेने मौसी को उठाने की कोशिश की पर वो नहीं उठ पा रही थी.

रोते रोते उन्होंने कहा मेरे पैर में बहुत दर्द हो रहा है मैं चल नहीं पाऊंगी तो मेने उन्हे गोदी में उठाया और उनके बेडरूम में सुला दिया और डाक्टर को बुलाया उन्होंने चैक किया की उनके पैर, कमर में मोच आई जिससे उनको 10 दिन रेस्ट करना होगा और कुछ पैन किलर दी और एक मोच वाली जगह पर मालिश की दवाई दी.

फिर मैने मौसी को पैन किलर दी और कुछ बिस्किट खिलाकर आराम करने को कहा फिर मैंने उनसे कहा की वो अपने पैर की मालिश कर ले तो उन्होंने कहा ठीक है परंतु कुछ देर बाद मौसी ने आवाज लगाई और मैं तुरंत गया तो मौसी ने कहा अमित मेरी कमर में मोच होने के कारण मैं पैर की मालिश नहीं कर पा रही हू और कमर की भी नहीं हो पा रही हैं तो तुम कुछ मदद कर दो.

ये सुनते ही मेरे मन में तो लड्डू फ़ूटने लगे तो मेने कहा ठीक है मैं कर देता हूं तो मेने मौसी को मुंह के बल लेटने को कहा और वो लेट गई. मौसी साड़ी पहन रखी थी तो मेने कहा मौसी आप साड़ी को निकाल दो ताकि मैं सही से मालिश कर सकू.

तो मौसी ने कहा अमित मुझसे उठा नहीं जा रहा तुम ही साड़ी को निकाल लो प्लीज, अब मेने मौसी की साड़ी को आहिस्ते आहिस्ते उतारना शुरू किया और मेरे हाथ कांप रहे थे क्योंकि इससे पहले मेने कभी किसी लड़की/औरत को नहीं छुआ था.

अब मौसी मेरे सामने एक पेटीकोट और ब्लाऊज़ में थी जिससे वो एकदम सेक्सी लग रही थी फिर मैने थोड़ी सी दवाई लि और कमर की मालिश शुरू कर दी. मौसी के बदन के स्पर्श से मेरे शरीर में हलचल होनी शुरू हो गई उनकी भरी हुई पीठ मेरे सामने थी और मैं एक समय के लिए जी भर के देखने लगा.

अब मौसी ने कहा कि पैर की भी मालिश कर दो तो मैंने मौसी को सीधा लेटाया और पेटीकोट को थोड़ा ऊपर उठाकर घुटनो तक मालिश करने लगा जिससे मेरा तो मानो दिमाग स्वर्ग में था धीरे धीरे हाथ को जांघो तक ले जाने लगा और मेरा लन्ड तो एकदम खड़ा हो गया था और सायद मौसी के पैरो से रगड़ने लगा.

जिससे मौसी कुछ समझ गई और मुझसे कहा अब रहने दो और मालिश रात को कर देना फिर मैने ठीक से सुलाकर अपने कमरे मे आ गया और बाथरूम मे जाकर मूठ मारकर आया, घर का कुछ काम करने लगा अब मेने रात का खाना बनाया और मौसी को खिलाया. “Vasna Ki Kahani”

फिर मैं भी खाकर ऊपर कमरे में आ गया फिर मौसी के पास गया और उनको दवाई देकर सोने को कहा तो मौसी ने कहा की वो मालिश तो कर दो तो मेने कहा ठीक है आप अपनी साड़ी निकाल दीजिए तो मौसी ने कहा बेटा तुम ही निकाल दो.

तो मेने साड़ी उतार दी और मौसी से कहा की मौसी आपका ये ब्लाउज और पेटीकोट भी निकाल दूं. तो मौसी ने कहा क्यों तो मेने कहा मैं आपकी पूरी कमर और पैरो की अच्छी तरह से मालिश कर देता हूं जिससे आपको जल्दी आराम मिलेगा.

तो मौसी एक बार के लिए कुछ सोची फिर हां बोल दी, और कहा जैसा तुम्हे ठीक लगे तो मेरे मन में लड्डू ही लड्डू फ़ूटने लगे. और मेने अपने कांपते हुए हाथो से उनका ब्लाउज व पेटीकोट निकाल दिया जिससे वो मेरे सामने बस एक काली पेंटी तथा काली ब्रा में थी और मानो एकदम अप्सरा लग रही थी एकदम सेक्सी.

जिसकी मेने कभी कल्पना भी नहीं की थी अब मेने थोड़ी सी दवाई पीठ पर लगाई और धीरे धीरे मालिश करने लगा. 5 मिनिट पीठ की मालिश के बाद डरते हुए मेने अपनी उंगलियां बूब्स के पास ले जाने लगा हल्का हल्का टच करने लगा और उनके बूब्स को महसूस करने लगा और बीच बीच में बूब्स पर हाथ लगाने लगा.

और ऐसा करने पर मौसी की कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई तो मेरी हिम्मत और बढ़ गई और मैं बूब्स पर हाथ फेरने लगा और मेरा लन्ड तन कर खड़ा हो गया था थोड़ा मौसी को टच हुआ जिससे सायड मौसी को कुछ होने लगा था अब मेने मौसी को सीधा किया और पैरो की मालिश करने लगा.

कुछ देर तक मालिश करने के बाद मेने अपना हाथ जांघो की बीच से फिराने लगा जिससे मौसी की वासना भी जाग उठी थी और वो इसका बिलकुल भी विरोध नहीं कर रही थी तो मैं समझ गया मामला सेट ह तो मेने हिम्मत करके जांघो से ऊपर चूत के पास उंगलियां फिराने लगा. “Vasna Ki Kahani”

और मेरे अंदर एकदम करंट दौड़ने लगा और मेरा लन्ड पिचकारी मारने को होने लगा. फिर मैने धीरे धीरे मालिश करते हुए चूत को छूने लगा और चूत की गर्मी को महसूस करने लगा और मेने हिम्मत करते हुए मौसी की चूत में उंगली डाल दी और मौसी की हल्की सी सिसकारी निकल गई आ आ आआह्हह…….

तो मैं समझ गया मौसी के अंदर की वासना जाग उठी है और आज की रात रंगीन होने वाली है यह सोचते हुए मेने मौसी के बूब्स दबाने शुरू कर दिए अब वो मेरा पूरा साथ दे रही थी, वो प्यार भरी सिसकारियां ले रही थी ऊंह ऊऊऊऊंह ऊऊऊऊह….. आ आआ आआआअऊ…….

अब मेने मौसी के हाथ में अपना लन्ड थमा दिया और वो हाथ में लन्ड लेते ही बोली ये क्या है अमित तुम्हारा है या घोड़े का इतना बड़ा, ये तो मेरी फाड़ देगा. आपको बता दूं मेरा लन्ड 10 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है और यह कहते हुए लन्ड मुंह में लेकर चूसने लगी एकदम प्यार से चूस रही थी और मैं मौसी की चूत में उंगली चला रहा था.

10 मिनिट बाद मैं झड़ने लगा और मौसी के मुंह में झड़ने लगा और मौसी पूरा वीर्य पी गई अब मौसी भी झड़ने लगी और मेने सारा पानी पी लिया. अब मे मौसी की चूत को चाटने लगा उसने अपनी जीभ अंदर बाहर करने लगा चूत का दाना मुंह में लेकर चूसने लगा.

जिससे वो एकदम कामुक हो उठी और जोर जोर से सिसकारियां लेने लगी आआ आआ आआ आआ……… ऊऊऊ ऊऊऊऊ ऊऊयू आआ अह आह…. और मेरा सिर अपनी चूत में गड़ाने लगी, 10 मिनिट चाटने के बाद एक बार फिर मौसी झड़ गई और मेने सारा पानी पी लिया. “Vasna Ki Kahani”

अब मेने अपना लन्ड मौसी की चूत पर सेट किया, और बाहर ही रगड़ने लगा, जिससे मौसी तड़प उठी और बोली और मत तड़पा, अब नही रहा जाएगा अब डाल दे लन्ड अपनी रण्डी मौसी की चूत में ये चूत बहुत महीनो से प्यासी है इसकी प्यास बूझा दे आज चोद डाल आज मादरचोद अपनी मौसी को.

मौसी के मुंह से गाली सुनकर मेरे अंदर एक उत्साह आ गया और अपना लन्ड चूत पर सेट करके एक जोरदार धक्का दिया और मौसी जोर से चिलाई और झटपटाने लगी आआ आआ आआ आआ……… क्योंकि मौसी कई महीनो से चूदी नहीं थी जिससे उनकी चूत टाईट थी.

और लन्ड आधा अंदर चला गया, मौसी की आंखों से आंसू भी आने लगे और बोली प्लीज बाहर निकालो अपना लन्ड बहुत दर्द हो रहा है पर मैं इसकी परवाह न करते हुए एक जोरदार धक्का और लगा दिया इस बार लन्ड पूरा अंदर तक चला गया और मौसी और जोर से चिलाने लगी, आआ अह आह आह …।। आह ओह ओह ऊऊऊऊऊ….,रोने लगी, झटपटाने लगी, लन्ड बाहर धकेलने लगी.

पर मेरी पकड़ इतनी मजबूत थी कि वो नाकाम रही और रोते रही करीब 5 मिनिट तक मैं लन्ड को बिना हिलाए मौसी को होठ पर किस करने लगा और बूब्स दबा दबा कर दूध पीने लगा चुचियों को मुंह में भरकर पीने लगा अब मौसी का दर्द कम हो गया तो मेने धीरे धीरे लन्ड को आगे पीछे करने लगा.

और मौसी सिसकारियां भरने लगी ऊऊऊंह ऊऊंऊ……. चोदो राजा चोदो और जोर से ऊऊउ ऊऊऊं आआ…….. आज भोसड़ा बना दो मेरी चूत का अब मेने भी गालियां देनी शुरू कर दी ले बहन की लोड़ी, छीनाल, रण्डी और ले मेरा लन्ड आज तेरी आग शांत करूंगा मेरी रण्डी. “Vasna Ki Kahani”

2 मिनिट के बाद मेने स्पीड बढ़ा दी अब मौसी को मजा भी आ रहा था और दर्द भी हो रहा था ऊऊऊऊऊऊ ऊऊऊऊआई आआ……. ओह ओह आआ ऊऊऊऊऊऊऊ …… करके सिसकारियां भरने लगी कमरे में ठप ठप ठप की आवाज गूंज उठी 10 मिनिट की दर्द भरी चूदाई के बाद अब मैं और मौसी साथ में झड़ने को हुए और मेने स्पीड बढ़ा दी और मौसी की चूत में ही झड़ गया और मौसी भी झड़ गई और हम दोनो बेसुध होकर 10 मिनिट बेड पर पड़े रहे.

अब एक बार फिर मोसी ने मेरा लन्ड चूसना स्टार्ट किया और मैं मौसी के मुंह को जोर जोर से चोद रहा था मुंह से गू घू गू धू….. की आवाज पूरे कमरे मैं गूंज उठी अब मैं एक बार फिर झड़ गया मोसी सारा वीर्य पी गई. और मैने एक बार फिर लन्ड मौसी की चूत पर लगाया और जोरदार झटका मारा इसबार मौसी को कम दर्द हुआ और गांड़ उठा उठा कर चुदवाने लगी.

ऊऊऊऊउ आआआह्हह आआ…… आआ ओ ओ आआ ….. चोदो मेरे राजा चोदो मुझे और जोर से चोद फाड़ दो मेरी चूत आआ आआ आ…… आ अह आह आह ओह ओह…. 30 मिनिट की धक्कापेल चूदाई के बाद दोनो झड़ गए इस तरह हमने रात को 4 बार चुदाई की और अब हम घर में नंगे ही रहने लगे और हमारा मन होता तभी हम चुदाई कर लेते तो दोस्तो कैसी लगी मेरी पहली कहानी कॉमेंट करके बताएं.

Visited 99 times, 1 visit(s) today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *