अंधेरे में बेटे से चुद गई – 2

Maa Beta Sex Story

New Maa Beta Sex Story 2
(अंधेरे में बेटे से चुद गई 2)

पिछले maa beta sex story भाग में आप ने पढ़ा कैसे मैं कामवासना की चरम सीमा पर थी और उस समय सिर्फ और सिर्फ चुदवाने के बारे में ही सोच रही थी आज तक सिर्फ और सिर्फ मेरे पति ने ही मुझे चोदा है वो चूत के अंदर किस सीमा तक घुसता है और आज जब वो लंड उस सीमा से काफी आगे पहुंच चूका था तो मुझे हैरत होने लगी maa beta sex story में आगे क्या हुआ अब आगे की कहानी पढ़िए

शायद आज बहुत उत्तेजना की वजह से उनका लंड कुछ अत्यधिक फूल गया था जब मैंने उसे मुठी में भरा था तो मुझे वो बहुत मोटा लगा था अचानक नजाने कयों मुझे अजीब सा लगा और मैं अपना एक हाथ नीचे हम दोनों के बीच ले गई उफ्फ्फ मेरी हैरत की सीमा ना रही लंड तो अभी भी एक इंच से जयादा बाहर था maa beta sex story

मैं कुछ समझ पाती उसी समय मेरे पति के दोनों हाथ मेरी कमर पर कस गए और आईईईईई मेरे मुंह से तेज़ सिसकारी निकल गई कमीने ने दोनों हाथों में मेरी कमर जकड़ कर नीचे को दबाया और नीचे से अपनी कमर ऊपर को उछाली और पूरा लंड मेरी चूत में पेल दिया वो कमीना ही था मेरे पति का लंड इतना लम्बा मोटा नहीं हो सकता था वो कौन था मुझे कोई अंदाज़ा नहीं था और में सोचने की हालात में भी नहीं थी

कमीने ने लंड अंदर घुसाते ही धक्के लगाने शुरू कर दिए मेरी कमर पकड़ वो नीचे से दनादन मेरी चूत में लंड पेलने लगा मेरी कमर को उसने बहुत कस कर पकड़ा हुआ था के कहीं मैं भाग ना जाऊं मगर मैं भागने की स्थिति में तो थी नहीं कामोत्तेजना तो पहले ही मेरे सर चढ़ी हुई थी और चूत में उस भयंकर लंड के ताकतवर धक्को ने मुझे पसत कर दिया

मेरे मुख से सिसकियां निकलने लगी मैं आह उनन्ह उफ्फ्फ करती सिसकती कराहती चुदने लगी सिसकियों के साथ साथ में खुद अपनी कमर हिलती चुदाई में उसका साथ देने लगी मुझे राजी देखकर उसकी पकड़ धीरे धीरे मेरी कमर पर हलकी पढने लगी जैसे ही मेरी कमर पर उसकी पकड़ ढीली पड़ी मैंने अपने दोनों हाथ उसकी छाती पर रखे और उछाल उछाल कर अपनी चूत उसके लंड पर पटकने लगी maa beta sex story

वो भी ताल से ताल मिलाता मेरी चूत में लंड पेलने लगा फच फच की आवाज़ कमरे में गूंजने लगी मैंने एक बार भी उस पराये आदमी को रोकने की कोशिश नहीं की थी मेरे दिल में खयाल तक नहीं आया था के मैं अपने पति के साथ धोखा कर रही हूं सुना था भगवान मन की मुराद पूरी कर देता है आज देख भी लिया था

आज शाम से बार बार मन में पराये आदमी से चुदवाने का खयाल आ रहा था और अब हकीकत में एक ताकतवर लंड मेरी चूत को बुरी तरह से रगड़ ररहा था उफ्फ्फ्फ्फ ढ कहीं यह वही तो नहीं जिसने डांस के समय कई बार मेरे मम्मों को मसल दिया था वही होगा पूरी शाम मेरे आगे पीछे घूम रहा था

मैं अभी सोच ही रही थी के उसने मेरी बाहें पकड़ी और मुझे अपने ऊपर गिरा लिया फिर वो मुझे एक तरफ को करके मेरे ऊपर आ गया मेरी टांगे के बीच आकर उसने मेरे पैर पकडे और उठाकर अपने कंधो पर रख लिए मैंने अपनी टांगे आगे कर उसकी गर्दन पर लपेट दी उसने अपना लंड मेरी चूत रखा और एक करारा झटका मारा maa beta sex story

कमीने ने पूरा लंड एक ही झटके में जड़ तक पेल दिया था मैं चीख ही पड़ी थी मगर उसने कोई दया ना दिखाई और मेरे कंधे थाम मेरी चूत में फिर से लंड पेलने लगा आअह्ह्ह्ह्ह ऊऊह्ह्ह्ह ऊऊऊम्मम्म मेरी सिसकियां तेज़ और तेज़ होने लगी वो और भी जोश में आ गया

उफ्फफ्फफ हाये मेरे मेरे मम्में पकड़ो मेरे मम्में पकड़ो मैंने उसके हाथ कंधो से हटाकर अपने मम्मों पर रख दिए उसने तुरंत मेरे मम्मों को अपने हाथो में कस लिया ऐसे ही मेरे मम्मों को मसल मसल कर मुझे चोदो कस कस कर चोदो मुझे मैं उस अनजान सख़्श से बोली और जैसा मैंने उसे कहा उसने वैसा ही किया

मेरी टांगे कंधो पर जमाये उसने ऐसे ताबड़तोड़ धक्के मेरी चूत में लगाये के में बदहवासी में चीखने लगी उसका मोटा लंड मेरी चूत को इतनी बुरी तरह रगड़ रहा था और मुझे ऐसा असीम आनंद आ रहा था के में उसे उकसाती कमर उछाल उछाल कर चुदवाने लगी वो भी धमाधम लंड पेले हा रहा था कैसा जबरदस्त आनंद था और वो आनंद पल पल बढ़ता ही जा रहा था आखिरकार मेरा बदन अकड़ने लगा मैं हाथ पांव पटकने लगी maa beta sex story

उफ्फफ मारो और जोर जोर से मारो हाए चोदो मुझे जितना चाहे चोदो पूरा लंड पेलो आआईईईईई मैं बहुत देर तक टिक ना सकी और मेरी चूत से रस फूटने लगा वो अजनबी अभी भी मुझे पेले जा रहा था एक एक धक्का खींच खींच कर लगा रहा था और फिर वो भी छूट गया

मेरी जलती चूत में उसका गरम गरम रस गिरने लगा हुंगार भरता वो मेरी चूत को भरने लगा वो अभी भी धक्के लगा रहा था आखिरकार उसके धक्के बंद हो गए मगर वो अब भी उसी हालात में था अब भी उसके हाथ मेरे मम्मों को कस कर पकडे हुए थे

अब भी मेरी टांगे उसके कंधो पर थी मेरी सांसे लौट चुकी थी मैंने उस अजनबी के चेहरे को पकड़ अपने चेहरे पर झुकाया और अगले ही पल हमारे होंठ मिल गए मैं उसकी जिव्हा को अपने होंठो में भरकर चूसने लगी वो भी मेरे मुखरस को पीता मेरे होंठो को काटता मुझे चूमने चाटने लगा maa beta sex story

धेरे धीरे उसके हाथ मेरे मम्मों पर फिर से चलने लगे कभी मैं उसके होंठो को चूमती चुस्ती तो कभी वो हमारी सांसे फूलने लगी जब हम दोनों के चेहरे अलग हुए तो हम हांफ रहे थे सांसे संभालते ही हमारे होंठ फिर से जुड़ गए

Visited 68 times, 1 visit(s) today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *