माँ की चूत की गर्मी निकाल रहे थे अंकल

New Hindi Sex Story

Desi Hot Palang Chudai

हेलो दोस्तों मेरा नाम ईशा है मैं आज आपको अपनी एक कहानी सुनाने जा रही हूं दोस्तों यह मेरी सच्ची कहानी है। आज मैं आपको इस कहानी के माध्यम से मैं बताने जा रही हूं कि कैसे एक अंकल मेरी मां के साथ सेक्स कर रहे थे रात में। वह अंकल मेरे पापा के दोस्त हैं मैं खिड़की से सब कुछ देख रही थी. Desi Hot Palang Chudai

यह सिलसिला करीब 2 घंटे तक चला था और आज मैं आपको 2 घंटे में क्या-क्या हुआ था वह पूरी कहानी बताने जा रही हूं। दोस्तों मेरी उम्र 19 साल है मेरी मां की उम्र 38 साल है मेरे पापा के 1 दोस्त हैं शेखर बहुत ही लंबे चौड़े और बॉडी बिल्डर इंसान हैं मेरे पापा के सेहत उतनी अच्छी नहीं है.

मेरे पापा मार्केटिंग में है इसलिए वह हमेशा दिल्ली से बाहर ही रहते हैं अंकल का मेरे घर पर आना जाना है और 1 दिन की बात है जब मेरे पापा बिजनेस टूर पर कोलकाता गए हुए थे। रात को हम मां बेटी खाना खाकर सो गए थे मैं अपने कमरे में थी मम्मी अपने कमरे में.

मैं क्रेजी सेक्स स्टोरी पर कहानियां पढ़ रही थी और अपनी चूचियां दबा रही थी। मैं रोजाना इस वेबसाइट को ओपन करके कहानियां पढ़ती हूं अपने बदन से खूब खेलती हूं अपनी चूचियां दबाती हूं अपने चूत मैं उंगली करते हो जब मैं झड़ जाती हूं जब मेरी चूत से गरमा गरम पानी निकल जाता है तब मैं बाथरूम जाती हूं अच्छे से धोती हूं फिर वापस आकर सो जाती हूं।

ठीक वैसा ही हुआ था मैं अपने जिस्म की गर्मी को निकाल कर अपने बदन को सहला कर वासना की आग को बुझा कर जब मैं बाथरूम जा रहे थे तो मुझे मम्मी के कमरे में कुछ आवाज सुनाई दी खिड़की खुली हुई थी मैंने थोड़ा सा खिड़की के पर्दे को हटाकर देखें तो दंग रह गई एक मोटा ताजा लंबा इंसान मेरे मम्मी को चोद रहा था।

दोस्तों उस समय मम्मी मेरी गांड उठा उठा कर चुदवा रही थी मम्मी की बड़ी-बड़ी चूचियां वो अंकल जोर जोर से दबा रहे थे। निप्पल को अपने हाथों से लग रहे थे होंठ पर किस कर रहे थे और मेरी मां वासना की आग में धधक रही थी और वह जोर-जोर से मेरे मां को धक्के दे दे कर दे दे कर जोर जोर से चोद रहे थे.

मैं अपने आप को संभाल नहीं पाई दोस्तों क्या सेक्सी मंजर था वहां पर। जैसा फिल्मों में देखती थी वैसा ही अंकल मेरी मां के साथ कर रहे थे। हैरानी की बात तो यह है दोस्तों कि मेरी मां खुद गाली दे रही थी कह रही थी चोद मादर चोद चोद मुझे चोद।

मैं तो तेरे लिए ही बनी हूं मैं तो तेरी ही दुल्हन हूं बुड्ढा तो मुझे चोद ही नहीं पाता है उसका लंड ही बहुत छोटा है। मेरे पास ना कि आग मेरे पति से बुझती नहीं है। मैं तो चाहती हूं तुम मुझे रोजाना चोदो तुम ऐसे ही रोज मुझे खुश करो। मैं यह भी चाहती हूं कि मेरा पति हमेशा मार्केटिंग के लिए बाहर ही रहे और मेरी जिस्म की आग को मेरी चूत की ज्वाला को तुम ही शांत करो।

दोस्तों यह सब मैं सुनकर हैरान रही क्योंकि मेरे जिस्म में भी आग दौड़ने लगी मेरी चूत गीली हो गई थी मैं अपनी चुचियों को खुद ही दबा रही थी ऐसा लग रहा था कि मम्मी के साथ मैं भी अंकल से चुदवा लूँ। दोस्तों सच पूछिए तो मैं भी यही चाहती हूं मुझे भी कोई ऐसे ही चोदे.

पर हो सकता है इसके लिए थोड़ा हमें इंतजार करना पड़ेगा हो सकता है आने वाले समय में मैं इस अंकल को पटाकर खुद चुदवा लूँ हो सकता है क्योंकि मैं तो सच बता रही हूं दोस्तों अब मैं बर्दाश्त नहीं कर पा रही हूं और मैं जरूर अंकल से 1 सप्ताह के अंदर चुदवाउंगी.

दोस्तों अब मैं बताती हूं कि अंकल कैसे-कैसे मेरी मम्मी को चोद रहे थे। मैं आराम से खिड़की के पास खड़ी हो गई थी मम्मी की मोटी मोटी जांघें बड़ी-बड़ी चूचियां गोरा बदन और बाल बिखरे हुए पूरे बेड पर ऐसे वह लग रही थी मानो इस सेक्स की देवी हो। ये कहानी आप क्रेजी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है.

अंकल का गठीला बदन लंबा चौड़ा शरीर मेरी मां के ऊपर था मेरी मां दोनों पैरों को अलग-अलग की हुई थी और अंकल का मोटा लौड़ा मां की चूत में जा रहा था। हर एक धागे पर मेरी मां हाय हाय हाय ओह ओह उप उप करते थे।

अंकल मेरी मां की दोनों चुचियों को पकड़ कर दबोच रहे थे होंठ पर किस कर रहे थे गाल पर किस कर रहे थे उनके निप्पल को दोनों उंगली से रगड़ रहे थे। और जोर जोर से धक्के दे रहे थे पूरा पलंग हिला था दोस्तों पूरे कमरे में उप आह आह की आवाज आ रही थी।

थोड़ी देर में अंकल नीचे लेट गए मेरी मां उनके ऊपर चढ़ने फिर वह अंकल के लोड़े पर बैठ गई मां लोड़े को पकड़कर अपने चूत में घुसा दी और उस पर बैठ गई अब वह हमेशा ऊपर नीचे करने लगे अपनी चुचियों को वह खुद ही पकड़ कर दबाए जा रहे थे.

उनके बाल बिखरे हुए थे कमर से नीचे तक वह बार-बार उठते बैठते उठते बैठते और अंकल मेरी मां को गालियां दे रहे थे, कह रहे थे गजब की माल हो तुम गजब के माल हो तुम तुम सिर्फ मेरे लिए बनी हो तुम सिर्फ मेरे लिए बनी हो मुझे ऐसे ही खुश करते रहना मैं तुम्हें खुश करते रहूंगा तुम गजब की सॉलिड माल हो।

मेरी मां भी कह रही थी हां हां चोदो मुझे जितना चाहे चोदो जब चाहे वैसे चोदो चाहे तुम मेरी गांड मारो मैं तुम्हें कुछ नहीं बोलूंगी सब कुछ तुम्हारा है सब कुछ तुम्हारा है. दोस्तों, मुझे आज ही पता चला कि मेरी मां इतनी सेक्सी है और हैरान हूं कि वह पापा के साथ कैसे अपनी जिंदगी काट रही हैं.

क्योंकि मां को तो मोटा लौड़ा चाहिए ऐसा ही इंसान चाहिए जैसा कि अंकल है क्योंकि मां इस को बर्दाश्त कर रही थी। और जो भी था दोस्तों मेरी मां बहुत खुश थी और मेरी खुशी इसी में है मैं इस काम में मां का साथ देने वाली हूं।

मां की बड़ी-बड़ी चूचियां फुटबाल की तरह हिल रही थी मोटी मोटी गांड उनकी चूतड़ हिल रहा था। मां मेरी बहुत इंजॉय कर रही थी। उसके बाद मेरी मां घोड़ी बन गई अंकल अम्मा के पीछे आ गए थे और गांड को पकड़कर अपना लौड़ा मां के चूत मैं डाल दिया. “Desi Hot Palang Chudai”

मां की चीख निकल गई क्योंकि वह पीछे से डाल रहे थे और उनका मोटा लंबा लौड़ा मां की चूत के अंदर पूरा चला गया था। पर 1 मिनट के बाद ही मां का रूप रंग बदल गया वह फिर से आगे पीछे हो कर जोर जोर से धक्के देने लगी.

इधर अंकल दानादन धक्के दे रहे थे उधर माँ उनका साथ दे रही थी, दोनों एक दूसरे को देख कर दे रहे थे कमरे में फच फच की आवाज आ रही थी और आह आह की आवाज़ आ रही थी. अंकल कभी मां के पीठ को सहलाते कभी मां की दोनों चुचियों को पकड़ कर मसल देते हैं.

दोस्तों उसके बाद अंकल पलंग के नीचे खड़े हो गए मां को पलंग के किनारे पर ले आए दोनों पैरों को अपने कंधे पर रख लिया उसके बाद फिर से अपना लौड़ा मां के चूत पर सेट किया और जोर जोर से धक्के देने लगे दोस्तों अब मेरी मां पूरी ही रही थी पूरा कमरा आवाज कर रहा था। ये कहानी आप क्रेजी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है.

करीब 10 बीघा के देने के बाद ही अंकल निढाल होकर मां के ऊपर ही लेट गए माफी अंगड़ाई लेती हुई अजीब अजीब सी मुंह से आवाज निकालती हुई अंकल को पकड़कर और वह भी शांत हो गई मैं समझ गई दोनों शांत हो गए हैं दोनों झड़ गए हैं दोनों एक दूसरे को खुश कर दिए। “Desi Hot Palang Chudai”

मैं तुरंत ही भाग कर अपने कमरे में चली गई क्योंकि मैं खुद बहुत गर्म हो गई थी मैं तुरंत अपनी उंगलियां अपनी चूत डालने लगी और जोर-जोर से दाल डालकर बाहर निकालने लगी दोस्तों मैं खुद बहुत गर्म हो गई थी पर मैं कुछ नहीं कर सकती थी दोस्तों बस याद था उस याद को सोचकर मैंने अपनी चूचियां दबाना शुरू की और अपने चूत मैं उंगली डालना शुरू किया.

थोड़ी देर में मैं भी शांत हो गई। तभी मैं देखी अंकल चुपचाप अपने कपड़े पहनकर दरवाजे से बाहर जा रहे थे मां भी उनके पीछे-पीछे गई और फिर वहां पर मम्मी ने उस अंकल को चूमा गले लगे और बोले ठीक है कल रात को इसी समय फिर मिलेंगे। मम्मी बोली ओके जानू मैं फिर कल तुम्हारा इंतजार करूंगी आज जैसे तुमने खुश किया है वैसे ही कल भी खुश करना।

दोस्तों अब मैं भी अंकल की दीवानी हो गई हूं। दूसरे दिन भी अंकल आ गए थे और मम्मी को खूब पेला था रात भर। दोस्तों यह 3 दिन से ऐसा रोज हो रहा है पर मेरे बर्दाश्त के बाहर है उम्मीद करती हूं कि एक-दो दिन में ही मैं उस अंकल को पटा लूंगी और मैं खुद चुदुँगी और यह कहानी आपको जल्द ही क्रेजी सेक्स स्टोरी पर सुनआऊंगी मैं वादा करती हूं। 

Visited 113 times, 1 visit(s) today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *