डैडी ने सील तोडी और शादी की – 2

Baap BetiNew Hindi Sex Story

Baap Beti Ki Chudai Ki Kahani 2
(डैडी ने सील तोडी और शादी की 2)

पिछले भाग baap beti ki chudai ki kahani में आपने पढ़ा कि कैसे मेरे डैडी मेरे 18वें जन्मदिन पर मेरी चूत पर लंड रगड़ रहे थे डैडी के दोनों हाथो की उंगलियां चूत के किनारे पर थी और वो चूत फैला रहे मुझे चोदने का प्लान बनाए थे और वो मेरे साथ पूरे मज़े कर रहे थे मैं भी उनकी हरकतों का पूरा मज़ा ले रही थी उन्होने केक काटने के बहाने कैसे अपना लंड मेरी कुंवारी चूत पर लगा दिया था अब पढ़िये आगे baap beti ki chudai ki kahani

मेरा मन किया जोर से चिलाऊं और मां को बुला लूं मगर मुंह से कुछ ना निकला मेरी तो हालत बिगड़ गई मस्ती में मेरी चूत से पानी रिसने लगा डैडी ने उसी हालत में पूरा कैंडल बुझा तो दिए पर मेरी कुंवारी चूत में आग लगा दी

डैडी खड़े हो कर अपना कपड़ा ठीक कर बोले – केक काटो बेटा

मैंने कांपते हुए केक काटा डैडी ने मुझे एक टुकड़ा खिलाया तो मैं भी उन्हें देने लगी तो डैडी बोले

डैडी – ये क्या बबली मैं तुम्हे हमेशा अपनी गोद में बैठा कर खिलाया हूं तो अपनी गोद में ही बैठा कर खाऊंगा डैडी दूसरी और जा कर बेड पर पैरो को लटका कर बैठ गए मैं एक बड़ा सा टुकड़ा काट कर डैडी की तरफ पलटी और जो मंजर देखा तो मस्त होकर सोचने लगी लगता है डैडी आज ही मेरी चूत का उदघाटन कर देंगे baap beti ki chudai ki kahani

डैडी अपने लंड को झुका कर दोनों जांघो के बीच दबा रखा था जो कपड़ा अब तक डैडी की कमर में लिपटा था उसे अब डैडी ने अपनी जांघो पर डाल दिया था मैं समझ गई के डैडी को जब लंड नंगा करना हो तो ज्यादा परेशानी ना होगी ये सही समय था उनके लंड के दर्शन करने का मैं मुस्कुराते हुए डैडी के सामने खड़ी होकर जान बुझ कर बोली

मैं – ऊह डैडी आप तो इस तरह बैठे है अब मैं आपकी गोद में कैसे बैठूगी ?

तो डैडी बोले – आओ बताता हूं और मेरे बगल में हाथ डाल कर उठाते हुए बोले – मेरी प्यारी बेटी मेरे सामने बैठेगी

मैं तो जान ही रही थी के डैडी मुझे कैसे बैठाएंगे मुझे डैडी उठा कर अपने ऊपर लेने लगे तो मैं जान बूझकर डैडी की जांघ पर वाले कपड़े को एक पैर के अंगूठा में फंसा दी मैं टांगों को डैडी के कमर के साइड में फैलाई तो वो कपड़ा एकदम से अलग हो गया अब डैडी पूरे नंगे थे मैं तुरंत से अपना नंगा चूतड़ डैडी की जांघो पर रख कर बैठ गई डैडी के मुंह से मादक आवाज़ निकली आह्ह्ह्ह्ह baap beti ki chudai ki kahani

मैं अनजान बनकर बोली – क्या हुआ डैडी क्या मैं बहुत भारी हूं ?

तो डैडी मिनी स्कर्ट के अंदर चूतड़ पर हाथ रख कर मुझे अपनी ओर पूरा सटा कर बोले – तुम तो फूल से भी हलकी हो बेटी केक खिलाओ

मैं उनको केक खिला रही थी पर मेरा पूरा ध्यान डैडी के लंड पर था जिसे डैडी ने अपनी जांघो में छुपा रखा था केक खाने के बाद डैडी बोले

डैडी – बबली अब तुम कुछ ही दिनों की मेहमान हो इस घर में

मैं बोली – वो कैसे डैडी ?

तो डैडी बोले – तू अब जवान हो गई है कुछ दिनों के बाद तू शादी कर के अपने घर चली जाएगी

मैं डैडी से एक दम लिपट गई और रोने के अंदाज़ में बोली – ओह डैडी मैं आप को छोड़ कर कही नहीं जाउंगी

अरे बेटी वो तेरे साथ अपना घर बसाएगा

मैं मचल कर बोली – मैं किसी के साथ घर नहीं बसाउंगी

atOptions = { ‘key’ : ‘57455d32813293803b3ba1b595ef9476’, ‘format’ : ‘iframe’, ‘height’ : 250, ‘width’ : 300, ‘params’ : {} }; document.write(”);

डैडी ने मेरी टांगों को जो उनकी कमर में लिपटी थी पकड़कर दोनों तरफ फैला दिया मेरी चूत का मुंह थोड़ा खुल गया और अंदर का पानी टपक गया उसके बाद डैडी मेरा चेहरा सामने कर मेरी मदहोश आंखों में झांकने लगे अचानक डैडी ने अपनी जांघों को एक झटके में फैलाया मुझ पर तो जैसे बिजली गिर गई मेरी गीली चूत पर लंड ने ठोकर मारा थप और उसी पल डैडी बोले baap beti ki chudai ki kahani

डैडी – तो किसके साथ घर बसाओगी बबली ?

मैं हैरान हो गई और इसी एहसास में उछल कर डैडी से चिपक कर और चूत को सिकोड़ कर बोली

मैं – डैडी आप के साथ

ये एक तरह से मैंने डैडी को खुला निमंत्रण दे दिया मैं इतना गरम हो गई की डैडी को खुले शब्दों में कह दिया के मैं आप के साथ घर बसाउंगी पहले तो डैडी कुछ देर तक चुप रहे फिर मेरी कमर में हाथ डाल कर अपनी जांघ पर पीछे सरकाया

आह मर गई

मेरी चूत लंड पर रगड़ मार कर गई डैडी के लंड का सुपाड़ा चूत के मुंह पर आ गया डैडी अपना हाथ पेट पर लेकर चूत की तरफ लाए चिकनी चूत पाकर डैडी खुश होकर बोले baap beti ki chudai ki kahani

डैडी – मेरी बेटी तो सचमुच जवान हो गई है और हाथ हटा कर चेहरा को दोनों हाथो में लेकर बोले हां इसी तरह साफ रखा करो किसी चीज की जरुरत हो तो कहना कैसे चिकना किया ?

डैडी अब खुल कर बोल रहे थे और मुझे भी उकसा रहे थे मैं फिर डैडी से लिपटना चाही तो डैडी रोक कर बोले

डैडी – इतना शर्माओगी तो घर कैसे बसाओगी ? बोलो अपनी चूत को कैसे चिकना बनाई

डैडी के मुंह से पहली बार चूत शब्द निकला

वह मेरे होंठों पर उंगली फेर कर बोले बोलो ना रानी ?

अब वो मुझे रानी कहने लगे थे मैं आंखे बंद कर बोलना चाही तो गालों को थप थपा कर बोले

डैडी – आंख बंद कर लोगी तो मैं चला जाऊंगा

मैं डर गई मैं तो डैडी को एक पल के लिए भी छोड़ना नहीं चाहती थी

मैं – जी क्रीम से

डैडी बोले – कहा से ली थी ?

मैं नज़र नीचे कर बोली – आप का बचा था उसी से

डैडी बोले – ठीक किया और हाथो को गालों पर से नीचे चूचि के ऊपर ला कर कुछ टटोला और चौक कर बोले

डैडी – अरे बबली ब्रा नहीं पहनी ?

मैं बोली – जी नहीं

डैडी बोले – ठीक है कल ला दूंगा

जरा बटन को खोलो नाप ले लूंगा नहीं तो पैंटी की तरह छोटी हो जायगी डैडी नंगी चूचि पर हाथ लगाने को बेताब थे मैं अपना चूतड़ आगे करते हुए चूत को लंड पर सरका कर ओह डैडी बोलने लगी डैडी मेरी इस हरकत से समझ गए कि मैं उनके लंड पर चूत रगड़ना चाहती हूं तो डैडी मेरी कमर पकड़ कर मुझे फिर पीछे की तरफ कर दिए और इस घिसाई का मज़ा मैं फिर ना ले पाई baap beti ki chudai ki kahani

डैडी बोले – अरे खोलो ना नहीं लेना क्या ?

मैं अपने हाथ बटन पर ले गई मुझे शर्म भी आ रही थी एक एक कर जब सारे बटन खोल डाले तो डैडी ने लंड को नीचे से ठुनका कर पूछा खुला ?

मैं – जी डैडी

डैडी अब एन्जॉय कर रहे थे

डैडी – सामने से कपड़ा हटाओ

कमरे में एक मोमबत्ती जल रही थी इसलिए रौशनी कम थी इसलिए अपने कड़े नुकीले चूचियों को डैडी के सामने करने की हिम्मत भी हुई शर्ट के दोनों पल्लो को सामने से दरवाजे की तरह खोला इतना तो लाइट था के नज़र तो आ ही रहा था लेकिन डैडी मस्ती लेने के लिए बोले baap beti ki chudai ki kahani

डैडी – खोलो ना रानी

मैं भी चूचि पर हाथ रखवाने को बेताब थी

डैडी को देख कर बोली – खोला तो है डैडी नापो ना

डैडी दोनों हथेलियों को फैला कर मेरी बगलों में डाला और धीरे धीरे साइड से चूचियों पर ले जाकर पहले तो हर तरफ का जायजा लिया फिर धीरे धीरे पम्पिंग कर बोले

Visited 69 times, 1 visit(s) today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *