किस्मत का खेल या मेरी गलती-3

New Hindi Sex Story

पिछला भाग पढ़े:- किस्मत का खेल या मेरी गलती-2

अब तक आपने पढ़ा कि कैसे मेरी गर्लफ्रेंड नैना ने उस बूढ़े सिक्योरिटी गार्ड का लंड चूसा। मेरी चुदासी नैना चुदने को बेताब थी। वो बुड्ढा हमें एक कमरे में ले गया जहां पे बहुत सारे डिस्प्ले टीवी लगे थे। उसने शायद वही से हमको देखा होगा।

वो अपने टीवी पे थ्रीसम पोर्न लगाने लगा (मुझे समझ नहीं आ रहा था कि ये बुड्ढा आखिरी क्या चाह रहा था)। मैं इतना गरम था कि नैना को नीचे लिटा कर उसके कपड़े उतारने लगा। मैंने उसके कपड़े उतारे और उसकी चूत पर किस की। वहां तक पोर्न चलने लगा।

वो हमें देखने लगा और अपनी पेंट उतारने लगा। मैं समझ गया वो एक बार फिर तैयार होना चाहता था, तो मैंने जल्दी से लंड सेट किया और धक्का दिया। लेकिन लंड अंदर नहीं जा रहा था। नैना चिल्लाने लगी। वो सिक्योरिटी वाला रुमाल लेके आया अपना, और मेरी गर्लफ्रेंड के मुंह में दिया और मुझसे कहने लगा-

सिक्योरिटी वाला: पहली बार ऐसा नहीं होगा। मुझे करने दो।

मैंने उसे मना किया और अपने लंड पे थूक लगा के एक और धक्का दिया। मेरा 2 इंच लंड अंदर गया, पर मेरी प्रेमिका चिल्लाने लगी तो डर गया, और अपना लंड निकाल लिया। वो रोने लगी। मैंने उसका रूमाल निकाला और उसको किस करने लगा फेस पे और गर्दन पे।

उस गार्ड ने अपना लंड उसके मुंह में दिया और मुझे कहा: एक और बार ट्राई करो। मैंने उसकी चूत पे फिर से अपना थूक लगा दिया। पर इस वक़्त नैना बहुत डर रही थी। उस गार्ड ने मुझसे कहा कि मैं अपना लंड सैनिटाइजर से गिला कर लूं, जो कि सामने एक टेबल पर रखा था, और मेरी प्रेमिका के मुंह में रूमाल दाल दिया। शायद यहीं फैंसला सबसे ज्यादा मनहूस था।

मैं अपना लंड गीला करने उठा और बॉटल से सैनिटाइजर लेकर ठीक से ध्यान से गीला करने लगा। पर जब तक मैं गीला करूं मैंने के एक ज़ोर से चीख सुनी, जो कि बहुत ही ज़ोर से थी। मैंने पीछे मुड़ के देखा तो वो सिक्योरिटी गार्ड मेरी गर्लफ्रेंड की चूत में अपना लंड डाल चुका था।  उसका लंड 7 इंच का था और 5 इंच अंदर जा चूका था।

मेरी गर्लफ्रेंड ने उसे रोका क्यूं नहीं? आखिर मेरे ज्यादा प्यार करने की खातिर मैं लंड को जोर से नहीं डाल पा रहा था, और उसी का अंजाम था कि मेरी गर्लफ्रेंड की सील एक बुड्ढे ने तोड़ दी थी, जिसने ना जाने कितने साल से किसी कमसिन चूत को छूआ तक नहीं होगा। खून निकल रहा था, और मैं दौड़ के मेरी प्रेमिका के पास पहुंचा।

वो रोने लगी। मुझे तरस आया और मैंने अपनी प्रेमिका के चेहरे पर हाथ फेरा। और वो कमीने ने एक और शॉट मार दिया। इस बार मेरी प्रेमिका चिल्लाने लगी और उसके बाल नोचने लगी। उसने 2-3 और झटके मारे, और पूरा लंड अंदर डाल दिया। मैंने देखा मेरी गर्लफ्रेंड बहुत ज्यादा गुस्सा थी। उसने 2-3 चांटे मारे और अपने नाखुन उसकी कमर में गाड़ दिए।

वो और झटके मारता रहा। क़रीब 1 मिनट तक वो उसे धीरे-धीरे झटके मारता रहा, और फिर उसने अपनी तेज़ चुदाई शुरू करदी। अब वो नॉन स्टॉप उसकी चूत में अंदर-बाहर हो रहा था। नैना चिल्लाने लगी। आह आह आह आह आह बुड्ढे अच्छे से चुदना हे मुझे,‌ साले कमीने।

मेरा लंड उसकी आवाज़ से खड़ा हो गया वापस। मैं अपना गम भूल कर उसके मुंह में लंड देने लगा। वो हर 30 सेकंड में लंड निकालती और कहती “चौद मुझे बुड्ढे, अच्छे से चौद। बहुत मज़ा आ रहा है”।

मैं फट्टाक से अपना लंड उसके मुंह में दे देता था। वो बुड्ढा 3-4 बार चूचों पे भी काट चुका था। नैना शायद 2 बार झड़ चुकी थी। जब भी वो झडने को आती थी, वो मेरा लंड निकल के उस बुड्ढे को कस के पकड़ लेती, और खुद ही आगे-पीछे होके झड़ती।

साला बुड्ढा पहले झड चुका था। उस वजह से उसका जल्दी झड़ना मुश्किल था। करीब 20 मिनट तक चुदाई की उसने उसी पोजीशन में। मैं नैना के मुंह में ही झड़ गया। फिर वो बुड्ढा भी झड़ गया। वो फिर मुझसे अपनी गर्लफ्रेंड की चूत चाटने को बोलने लगा, और उसे डॉगी स्टाइल में आने को कहा जेसे पॉर्न वीडियो में लड़की 2 लोगों से एक साथ चुद रही थी।

लड़की की गांड में भी लंड था। मैं डर गया। कहीं ये बुड्ढा इसकी गांड मारने के लिए तो नहीं तयार हो रहा। लेकिन फिल्म खत्म हो गई। मैंने उसकी चूत साफ की जिस्में खून भी था।

उस गार्ड ने मुझसे कहा: तुम यहीं रुको, मैं कपड़े लेकर आता हूं।

मैंने सोचा यही मौका है भाग जाने का और नैना की गांड बचाने का। वो सिक्यूंरिटी गार्ड गया।

मैंने अपने कपड़े ठीक किए। और अपनी गर्लफ्रेंड नैना को कपड़े पहनने को कहा। वो काफ़ी संतुष्ट थी। वो भी खड़ी हुई, कपड़े पहने, और बिना अंडरगारमेंट के हम भागने लगे और बहार चले गए।

आज नैना मेरी पत्नी है। पर आज भी उस चुदाई को याद करके में काफी ज्यादा रोमांचित और साथ ही बुरा महसूस करता हूं। आखिर ये मैंने क्या कर दिया? क्या ये सिर्फ मेरी गलती थी? आप बताएं मुझे। ये कहानी कैसी लगी?

इस बारे में मैंने उसके बाद नैना से सिर्फ एक बार बात की। ये मेरी फैंटेसी नहीं थी, कि कभी मेरी नैना के साथ ऐसा कोई खेल हो। नैना ने मुझे यही बताया कि वो खुद बहुत शर्मिंदा थी अपने व्यवहार के लिए। हमने फिर यहीं तय किया कि हम ऐसे कोई खेल पब्लिक प्लेस पर नहीं खेलेंगे, जिसके लिए हमें शर्मिंदा होना पड़ा।

उस दिन नैना को बहुत दर्द हुआ और उसे 3 से 4 दिन तक पेन किलर लेने पड़े। उस दिन चाहे वो संतुष्ट थी, पर वो शर्मिंदा भी थी। उसके दिन कसम खाई थी कि वो कभी अपने ऊपर इस तरह की चीज को हावी नहीं होने देगी। और हमने ये भी तय किया था कि ये बात किसी से नहीं कहेंगे।

मैंने तो अपनी गर्लफ्रेंड नैना को एक गैर बुड्ढे मर्द को सोंप दिया, और उसके मजे लेने दिए अपने सामने। पर मेरी आप से यही गुजारिश है कि ऐसे किसी और के बहकावे में ना आकर अपने रिश्तों की परवाह करें।

आपकी बीवी या गर्लफ्रेंड शायद को शारीरिक और मानसिक दोनों सुख की जरूरत है। वो आपकी कोशिश से खुश है। उन्हें किसी गैर मर्द को ना सोंप दे। क्योंकि वो गैर शायद आपका या आपकी बीवी का इस्तमाल कर सकता है। उसको वो मानसिक सुख आपके साथ और प्यार से ही मिलेगा। और बिना प्यार और केयर के सेक्स सिर्फ दर्दनाक होता है वो मज़ेदार नहीं।

मैंने अपने आपको ये कह कर मना लिया था कि मैं ही अपनी बीवी नैना की गांड मारूंगा। क्या कुदरत मेरे साथ कोई और खेल खेलेगी? अगली कहानी में मिलते है।

Visited 18 times, 1 visit(s) today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *